पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Capt Amarinder Singh) ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्याता ने इस्तीफा देने के साथ ही ‘पंजाब लोक कांग्रेस‘ (Punjab Lok Congress) नाम से नये राजनीतिक दल के गठन की आज घोषणा की। कैप्टन सिंह ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को भेजे पत्र में उन्होंने कहा कि राज्य के हितों की खातिर कांग्रेस से इस्तीफा दे रहे हैं। 

पत्र में उन्होंने अपने इस्तीफे के कारणों का भी विस्तृत ब्यौरा दिया है। उन्होंने कहा कि सेना में रहने के बाद लगभग 52 वर्षों से ज्यादा समय तक सार्वजनिक जीवन में रहते हुये अपने राज्य की सेवा कर रहे हैं। पत्र में उन्होंने अपना रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुये कहा है कि वर्ष 1980 में कांग्रेस के टिकट पर पटियाला से पहली बार लोकसभा में पहुंचने से लेकर अब तक के राजनीतिक सफर में देश, राज्य और पार्टी के प्रति दी गई सेवाओं, राज्य में आतंकवाद, स्वर्ण मंदिर पर सेना की कार्रवाई (Army action on Golden Temple), एसवाईएल समझौते को लेकर कार्रवाई से लेकर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Former Prime Minister Indira Gandhi) द्वारा उन्हें राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर दी गई अहम जिम्मेदारियों का विस्तृत जिक्र किया है। 

उन्होंने कहा कि राज्य के बाहर उनके कोई राजनीतिक सरोकार नहीं रहे हैं। राज्य के हितों को सुरक्षित रखने के लिये उन्होंने उच्चतम न्यायालय के एसवाईएल मामले में दिये गये फैसले के आलोक में विधानसभा में विधेयक लाकर नदी जल समझौता रद्द कर दिया था और इसे लेकर उन्हें तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन(संप्रग) के विरोध का भी सामना करना पड़ा था। यहां तक कि तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह उनकी सरकार को भंग करने का फैसल तक लेने वाले थे। वर्ष 2014 उन्होंने अमृतसर लोकसभा चुनाव में राज्यसभा के तत्कालीन विपक्ष नेता अरूण जेटली (Arun Jaitley) को पराजित किया। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावों में उनके नेतृत्व में पार्टी ने 117 में से 77 सीटों पर जीत दर्ज की जो राज्य में पार्टी का उस समय तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था।