रूस और यूक्रेन के बीच जंग जारी है. इसमें दोनों ही देशों को खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है. इसका प्रभाव पूरी दुनिया पर भी पड़ा है. इस युद्ध को लेकर अमेरिका सहित अन्य पश्चिमी देश जहां यूक्रेन का समर्थन कर रहे हैं. वहीं, भारत ने किसी भी देश का समर्थन नहीं किया है. हालांकि, इस दौरान भारत  ने जहां युद्ध को खत्म करने की अपील की है. वहीं, यूक्रेन  को मदद भी पहुंचाई है. 

यह भी पढ़े : ब्रह्मपुत्र नदी के नीचे जुड़वा सुरंग बनाने की अपनी महत्वाकांक्षी योजना को छोड़ सकता है केंद्र


इस बीच भारत के यूक्रेन पर अस्थिर बने रहने के आरोप लगते रहे हैं. इसी कड़ी में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने टिप्पणी की थी कि भारत यूक्रेन पर अस्थिर है.

इस टिप्पणी का संसद में जवाब देते हुए विदेश मंत्री जयशंकर (Jaishankar) ने कहा कि भारतीय विदेश नीति के फैसले राष्ट्रहित में किए जाते हैं.

यह भी पढ़े : राशिफल 24 मार्च: वृश्चिक समेत इन राशि वालों का सूर्य की तरह चमकेगी किस्मत, इन राशि वालों को व्‍यवसायिक सफलता मिलेगी


वहीं, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में रूस द्वारा यूक्रेन में मानवीय संकट (Ukraine Humanitarian Crisis) को लेकर प्रस्ताव लाया गया था. इसमें भारत समेत 13 सदस्यी देशों ने वोट नहीं दिया. 

रूस द्वारा लाए गए प्रस्ताव (Russian Resolution) से दूर रहकर भारत ने रूस-यूक्रेन स्थिति पर अपना रुख बरकरार रखा है. रूस के पक्ष में वोट नहीं पड़ने पर UNSC ने प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया. भारत और UNSC के 12 अन्य सदस्यों ने प्रस्ताव पर वोट नहीं किया.