आज के दौर की लाइफ स्टाइल में डायबिटीज (Diabetes) और ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियां आम हो गयी हैं. पहले के समय में ये बीमारियां (Diseases) चालीस-पचास की उम्र होने के आस-पास ही हुआ करती थीं लेकिन आज कल तो युवा (Youth) भी इसकी चपेट में आने लगे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन की माने तो आज के समय में पूरे विश्व में लगभग 350 मिलियन लोग डायबिटीज की बीमारी से जूझ रहे हैं. अगर देखा जाये तो बहुत से केस में डायबिटीज होना जहां जेनेटिक माना जाता है. तो वहीं अब इस बीमारी की वजहों में अनकंट्रोल्ड लाइफ स्टाइल, एक्सरसाइज न करना, फिजिकल एक्टिविटीज न करना, मेंटल स्ट्रेस लेना जैसी चीजें भी शामिल हैं. डायबिटीज को दूर करने के लिए अगर आप चाहें तो 1mg के अनुसार यहां बताये जा रहे इन आयुर्वेद नुस्खों को अपना सकते हैं.

डायबिटीज की दिक्कत को दूर करने के लिए आप तुलसी की मदद ले सकते हैं. इसके लिए आप रोज दो-तीन तुलसी के पत्ते खाली पेट खा सकते हैं.

अमलतास  को भी डायबिटीज की दिक्कत को दूर करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए अमलतास के पत्तों का रस निकल कर रोजाना चौथाई कप सुबह खाली पेट पीने से डायबिटीज ने निजात मिलने लगेगी.

सौंफ भी डायबिटीज के इलाज के लिए खायी जा सकती है. इसके लिए आप रोजाना खाना खाने के बाद सौंफ खा सकते हैं. इससे भी आपको दिक्कत में राहत मिलने लगेगी.

डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए आप करेले का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आपको करेले का जूस नियमित तौर पर पीना चाहिए.

शलजम खाने से भी डायबिटीज को नियंत्रण में किया जा सकता है. इसके लिए आप रोजाना शलजम की सब्जी बनाकर खायें या सलाद के रूप में शलजम का इस्तेमाल करें.

डायबिटीज की दिक्कत को दूर करने के लिए आप अलसी के बीज काम में ले सकते हैं. इसके लिए आप अलसी के बीज का पाउडर बनाकर सुबह खाली पेट गर्म पानी से खायें.

शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मेथी दाना भी काफी असरदार है. इसके लिए आप मेथी दानों को रात में एक गिलास पानी में भिगो कर रख दें. सुबह उठकर खाली पेट इस पानी को पी लें और दानों को चबा लें.