बिहार में बाढ़ का तांडव जारी है जिसका सीधा असर अब ट्रेन परिचालन पर पडऩे लगा है। समस्तीपुर रेलमंडल के दो अलग अलग रूटों पर ट्रेनों का परिचालन बंद हो गया है।  एक ओर जहां मंडल के सगौली नरकटियागंज रेलखंड पर सात दिनों से ट्रेनों का परिचालन बंद है वहीं आज यानी 10 जुलाई से समस्तीपुर दरभंगा रेलखंड के डाउन लाइन पर ट्रेनों का परिचालन बंद हो गया है।  इन रूटों पर कुछ ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया गया है तो कुछ ट्रेनों को शॉर्ट टर्मिनेट कर चलाया जा रहा है। 

कुछ महत्वपूर्ण मेल एक्सप्रेस ट्रेनों को डायवर्ट रूट से चलाया जा रहा है।  बता दे कि मिथिलांचल को जोडऩे वाला समस्तीपुर- दरभंगा के महत्वपूर्ण रेलखंड पर मुक्तापुर और समस्तीपुर स्टेशन के बीच बूढ़ी गंडक नदी में बाढ़ का पानी रेलब्रिज संख्या 1 के गाडर को छू जाने समस्तीपुर रेलमंडल ने डाउन लाइन से परिचालन को बंद कर दिया है।  मंडल के ष्ठक्ररू अशोक माहेश्वरी ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए इस रेलखंड के डाउन लाइन से परिचालन को बंद किया गया है।  इंजीनियरिंग विभाग की टीम लगातार समस्तीपुर में बूढ़ी गंडक नदी पर बने रेलब्रिज संख्या 1 की निगरानी कर रही है।  वहीं सगौली रेलखंड के रेलब्रिज संख्या 248 की भी निगरानी की जा रही है। 

समस्तीपुर दरभंगा रेलखंड के डाउन लाइन से परिचालन के बंद होने से मुंबई जाने वाले यात्री काफी परेशान दिखे।  जयनगर से लोकमान्य तिलक टर्मिनल को जाने वाली ट्रेन के मार्ग में परिवर्तन करने से समस्तीपुर स्टेशन पर ट्रेन पकडऩे पहुंचे यात्री अपना टिकट दिखा कर अपनी परेशानियों को बता रहे थे कि उन्होंने एक से दो महीने पहले कंफर्म टिकट कटवाया था, लेकिन ट्रेन का मार्ग बाढ़ के कारण बदल दिया गया है। 

इतना ही नहीं, हैदराबाद से रक्सौल जाने वाली ट्रेन के यात्री भी असमंजस की स्थिति में दिखाई पड़े।  यात्रियों को परिचित कॉल करके ट्रेन बंद होने की सूचना दी गई।  हालांकि अप लाइन से दरभंगा की ओर जाने वाली ट्रेनों का परिचालन अभी फिलहाल बंद नही किया गया है लेकिन डीआरएम अशोक माहेश्वरी के अनुसार इस रेलखंड के हायाघाट स्टेशन के समीप पुल संख्या 1 पर दवाब बढ़ा हुआ है।  बागमती नदी में अगर जलस्तर में और बढ़ोतरी होती है तो ऐसी स्थिति में समस्तीपुर दरभंगा रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन पूर्णत: बंद हो जाएगा।