असम में लगातार हो रही बारिश के चलते बाढ़ की स्थिति और खराब हो चुकी है। अब बाढ़ का पानी नए क्षेत्रों में घुस रहा है। बाढ़ से अब तक 51000 से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि धेमाजी, लखीमपुर, सोनितपुर, नालबारी, बारपेटा, चिरांग और मजूली जिलों में 51400 लोगों पर बाढ़ की बुरी तरह मार पड़ी है। आज 85 गांवों में 51000 से अधिक लोग बाढ़ की विभीषिका से परेशान रहे। कल तक इन सात जिलों में 82 गांवों के करीब 45,500 लोग बाढ़ से बेहाल थे। लखीमपुर पर बाढ़ की सबसे अधिक मार पड़ी है। 

गौरतलब है कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्य के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को बाढ़ से बचाव के लिए केंद्र की तरफ से हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया था। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में और अधिक बारिश होने का पूर्वानुमान जताया है। बाढ़ से अब तक 32 लोगों की जान जा चुकी है। नयी दिल्ली में गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया था कि गृह मंत्री ने फोन पर सोनोवाल से बातचीत की और राज्य में बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया। अधिकारी ने बताया कि सिहं ने मुख्यमंत्री को बताया कि बाढ़ की स्थिति पर काबू पाने के लिए असम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों को हरसंभव सहायता मुहैया करायी जाएगी।