त्योंहार आते ही ऑनलाइन शॉपिंग के लिए हर तरफ सेल और ऑफर लगाए गए हैं। लेकिन यदि आप भी ऑनलाइन शॉपिंग करने जा रहे हैं तो ये खबर ध्यान से पढ़ें। क्योंकि कंपनी के डिलीवरी ब्वॉय आपको भी चूना लगा सकते हैं।

दक्षिणी दिल्ली के पॉश इलाके वसंत विहार से हैरान कर देने वाली एक ऐसी वारदात सामने आई है। वसंत विहार की एक कोठी में रहने वाले सरोज कुमार यादव ने फ्लिपकार्ट से 2 समानों की अलग-अलग शॉपिंग की थी। दोनों ही समान इनको पसंद नहीं थे, जिसके बाद उन्होंने फ्लिपकार्ट पर उसे एक्सचेंज करने के लिए रिक्वेस्ट की।


यह भी पढ़ें—  मोदी सरकार बेटियों को दे रही 2000 रूपये महीना! जानिए ये मैसेज फर्जी या सही


रिक्वेस्ट करने के बाद सरोज कुमार यादव के पास फ्लिपकार्ट का डिलीवरी ब्वॉय आया एक सामान वापस लेता है। जबकि सरोज कुमार ने कहा कि उन्होंने सामान को रिटर्न करने का रिक्वेस्ट नहीं किया था लेकिन डिलीवरी ब्वॉय ने बहला-फुसलाकर कहा कि आपका एक ऑर्डर रिटर्न होगा और पैसा आपके अकाउंट में आ जाएगा जबकि पीड़ित ने कहा कि जब मेरी अकाउंट डिटेल फ्लिपकार्ट के पास नहीं है तो पैसा वापस कैसे आएगा।

इसके बाद डिलीवरी बॉय ने कहा कि अगर आपके पास पैसा नहीं आएगा तो आप मुझे कॉल कर लीजिएगा। फिर उसके बाद वह एक ऑर्डर लेकर वहां से चला गया। कुछ दिनों बाद दूसरा डिलीवरी ब्वॉय सामान एक्सचेंज करने के लिए आया। पीड़ित ने कहा कि उनका पहले वाला सामान का पेमेंट अभी तक नहीं आया उसके लिए क्या करना होगा। दूसरे डिलीवरी ब्वॉय ने सरोज से से पहले डिलीवरी ब्वॉय की बात कराई। पहले वाले डिलीवरी ब्वॉय ने पीड़ित को एक नंबर दिया और बोला आप इस नंबर पर कॉल करके अपनी समस्या बता दीजिए, आपको पैसा मिल जाएगा।

सरोज ने जब उस नंबर पर कॉल किया फिर उसके बाद उस नंबर वाले ने दूसरा नंबर दिया और बोला यह हमारे सीनियर का नंबर है, इनसे बात करके आपका पैसा मिल जाएगा। पीड़ित ने उस दूसरे नंबर पर जब बात की तो उधर से बोलने वाले व्यक्ति ने खुद को फ्लिपकार्ट का एम्प्लॉयी बताकर पीड़ित को बहला-फुसलाकर पेमेंट लेने के लिए एनीडेस्क एप्ल‍िकेशन डाउनलोड करने के लिए कहा। उसके बाद डेबिट कार्ड को कैमरे के सामने रखने को कहा जबकि पीड़ित को कैमरे की कोई भी तस्वीर उस एप्लीकेशन में नहीं दिख रही थी लेकिन सामने वाले के पास पीड़ित के कार्ड का सारा डिटेल चला गया और कुछ ही देर में पीड़ित से अकाउंट से लगभग 40 हजार रुपये से गायब हो गए और उसके थोड़ी देर बाद लगभग 10 हजार रुपये गायब हो गए।