उत्तराखंड में पिथौरागढ़ जनपद के बडोली गांव में विवाह समारोह में शामिल होने आये एक ही गांव के पांच बच्चों की बुधवार को नदी में डूबने से मौत हो गयी। गणाई तहसील में रजिस्ट्रार कानूनगो आरके मिश्रा ने बताया कि सेराघाट के कूना गांव में मंगलवार को एक युवती की शादी के बाद विदायी में पहाड़ी संस्कृति के अनुसार गांव के आठ बच्चे उसे विदा करने के लिये बारात के संग बडोली गये थे। 

बुधवार को सुबह करीब 10.00 बजे सभी बच्चे गांव के पास बह रही सरयू नदी में नहाने के बहाने उतर गये। देखते ही देखते आठ में से पांच बच्चे सरयू के तेज बहाव में बह गये। बाकी बच्चों में हड़कंप मच गया। सभी भागकर गांव गये और ग्रामीणों को घटना की जानकारी दी। ग्रामीणों ने घटना की जानकारी गणाई तहसील को दी। 

मिश्रा ने बताया कि तहसीलदार जीमेश कुटोला की अगुवाई में एक टीम मौके पर पहुंची और स्थानीय ग्रामीणों के साथ मिलकर खोज अभियान शुरू किया। कुछ देर बाद सभी पांच बच्चों के शव बरामद कर लिये गये। इस घटना के बाद कूना और बडोली के साथ ही पूरे क्षेत्र में मातम पसर गया। पांचों बच्चे कूना गांव के आपस में निकट संबंधी थे। मृतकों की पहचान रवीन्द्र (15), साहिल (15), राजेश (16), पीयूष (15), मोहित (17) शामिल हैं।