इंग्लिश चैनल (english channel) में मछली पकड़ने को लेकर ब्रिटेन और फ्रांस (UK and France) में विवाद गहरा गया है। फ्रांस ने आगामी दिनों में ब्रिटेन की नौकाओं और ट्रकों को रोकने की चेतावनी दी है जबकि ब्रिटेन ने भी ऐसे ही कदम उठाने की बात कही है।

इस विवाद में फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों (French President Emmanuel Macron) ने कहा है कि मछली पकडऩे के अधिकार को लेकर ब्रिटेन के साथ फ्रांस का विवाद (Fishing row) ब्रेग्जिट के बाद की दुनिया में ब्रिटेन की विश्वसनीयता की परीक्षा है। दोनों देशों ने एक-दूसरे पर ब्रेग्जिट के बाद के व्यापार समझौते का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। फ्रांस का दावा है कि उसकी कुछ नौकाओं को उन क्षेत्रों में मछली पकडऩे की अनुमति नहीं दी गई जहां पहले वह जाती थीं।

उधर, ब्रिटेन ने कहा है कि उसने यूरोपीय संघ (European Union) से नौकाओं के लिए आने वाले 98 प्रतिशत आवेदन को मंजूर कर लिया है और फ्रांस की महज कुछ दर्जन नौकाओं को लेकर विवाद (Fishing row) है। ब्रिटेन का कहना है कि कागजी कार्रवाई नहीं किए जाने के कारण ये कदम उठाए गए हैं। हालांकि फ्रांस का तर्क है कि यह सिद्धांत की बात है और वह अपने हितों की रक्षा करना चाहता है। गौरतलब है कि यह विवाद इस सप्ताह तब बढ़ गया जब फ्रांस के अधिकारियों ने आरोप लगाया कि स्कॉटलैंड में पंजीकृत एक जहाज से मछली पकड़ी जा रही थी। इस दौरान ले हावरे में जहाज के कप्तान को हिरासत में लिया गया।