कोरोना वायरस के खिलाफ भारत में अभियान शुरू हो गया है। देशभर में कोरोना टीकाकरण अभियान का पहला चरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रें सिंग के जरिए शुरू कर दिया है। टीकाकरण केंद्रों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि इतने बड़े स्तर का टीकाकरण अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया। यह अभियान इतना बड़ा है, इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि दुनिया के कई देशों की आबादी तीन करोड़ से कम है और भारत पहले ही चरण में 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है।

ध्यान दें कि पहले दिन कुल 3006 वैक्सीहनेशन सेंटर्स पर तीन लाख से ज्याेदा हेल्थि वर्कर्स को पहली डोज दी जाएगी। देश के सबसे बड़े अभियान पर मोदी ने कहा कि आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन रिसर्च से जुड़े अनेकों लोग विशेष प्रशंसा के हकदार हैं, जो बीते कई महीनों से कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में जुटे हुए थे। वैसे तो सफल वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं लेकिन कई बार जाने के बाद सफलता हाथ लग ही जाती है। थोड़ा देर से ही सही लेकिन दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं।


वैसे तो पूरे देश में टीकाकरण अभियान शुरु हो चुकी है। टीकाकरण की शुरूआत में देश मे सबसे पहले राजस्थान में जयपुर के सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य सुधीर भंडारी को टीके की खुराक दी गई। इसके अलावा, मध्य प्रदेश में एक अस्पताल के सुरक्षा गार्ड और एक सहायक समेत अन्य लोग सबसे पहले टीका लेने वालों में शामिल हो गए हैं। केंद्र के सुत्रओं ने बताया है कि हर सेंटर पर एक दिन में औसतन 100 लोगों का वैक्सीकन लगाई जाएगी। सबसे पहले एक करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम मोर्चे पर काम करने वाले करीब दो करोड़ कर्मियों और फिर 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा।