नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी की रणनीति तैयार करने को लेकर उदयपुर चिंतन शिविर के फैसलों के अनुरूप जिस 'टास्क फोर्स 2024' का गठन किया है उसकी मंगलवार को पहली बैठक हुई जिसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गये। 

यह भी पढ़ें : पारंपरिक आदिवासी पोशाक, आभूषणों का दस्तावेजीकरण करेगा नागालैंड

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख तथा पार्टी की 'टास्क फोर्स 2024' के सदस्य रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कार्य बल की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि बल के गठन के तत्काल बाद ही उसके सदस्यों की महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें निर्णय लिया गया कि आने वाले दिनों में टास्क फोर्स के सदस्य हर 48 से 72 घंटे में एक बार मिलेंगे और पार्टी की मजबूत बनाने को लेकर चर्चा करेंगे। 


उन्होंने कहा कि टास्क फोर्स 2024 पार्टी की मजबूती के लिए जो भी निर्णय लेंगे उन सब सिफारिशों को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के समक्ष रखेंगे। पार्टी नेतृत्व की संस्तुति मिलने के बाद उन सभी मुद्दों को अंतिम निर्णय के लिए सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था कांग्रेस कार्य समिति के समक्ष रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि बदलती चुनौतियों के साथ जो भी मुद्दे सामने आएंगे उन पर गहन विचार किया जाएगा और विचार के बाद इन मुद्दों को पार्टी अध्यक्ष के सामने रखा जाएगा। समिति का मकसद पार्टी को मजबूत स्थिति प्रदान करने के लिए विचार करना है और उन सब मुद्दों को पार्टी अध्यक्ष के समक्ष रखना है। 

यह भी पढ़ें : कोनराड संगमा ने ऑफिस आने-जाने के लिए खरीदी ये धांसू कार, एकबार चार्ज में चलती है 461 किमी

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी ने 2024 के आम चुनाव से पहले पूरे संगठन को सक्रिय करने की कवायत के लिए आज तीन महत्वपूर्ण समितियों का गठन किया है। पार्टी के उदयपुर नव संकल्प शिविर में लिये गये निर्णयों के तहत 'टास्क फोर्स 2024' राजनीतिक समिति और 'भारत जोड़ो यात्रा' के समन्वयन समिति का गठन किया है जिसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को रखा गया है।