ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (asaduddin owaisi)  को अब जेड कैटगरी की सुरक्षा (Z category security) मिल गई है। दरअसल गुरुवार को मेरठ से दिल्ली आते समय छिजारसी टोल गेट पर जानलेवा हमला (Attack On Owaisi) किया गया। हमलावरों की तरफ से चलाई गईं गोलियां उनकी कार पर लगी और असदुद्दीन ओवैसी बाल-बाल बच गए। हालांकि, हमले के बाद ओवैसी ने सुरक्षा लेने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा कि ना डरने वाला हूं, ना सिक्योरिटी लेने वाला हूं। अपना चुनाव प्रचार जारी रखूंगा। अगर किसी माई के लाल में दम है तो मार के दिखाए मुझे।

वहीं अब AIMIM के चीफ पर हमले के दोनों आरोपी सचिन पंडित (Sachin Pandit) और शुभम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और पूछताछ की जा रही है। प्रथम दृष्टया यह सामने आया है कि सचिन पंडित ग्रेटर नोएडा के बादलपुर थाना का रहने वाला है। सचिन लॉ का स्टूडेंट रहा है। इस आरोपी ने बीजेपी की सदयस्ता भी ग्रहण की हुई थी। ज​बकि दूसरा आरोपी शुभम सहारनपुर का रहने वाला है और खेती करता है। पुलिस को अब तक जांच में शुभम का कोई क्रिमिनल बैकग्राउंड नहीं मिला है। पूछताछ में शुभम और सचिन ने बताया है कि ये दोनों ओवैसी और उनके छोटे भाई के बयानों से बेहद नाराज थे।

गौरतलब है कि ओवैसी ने गुरुवार को बताया था कि मैं किठौर, मेरठ में एक चुनावी कार्यक्रम के बाद दिल्ली जा रहा था। छिजारसी टोल प्लाजा के पास दो लोगों ने मेरी गाड़ी पर तीन-चार राउंड गोलियां चलाईं। वे कुल तीन-चार लोग थे। मेरी गाड़ी के टायर पंक्चर हो गए, मैं दूसरी गाड़ी में वहां से निकला। आपको बता दें कि एआईएमआईएम चीफ (AIMIM Chief) असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी यूपी में भागीदारी परिवर्तन मोर्चा के साथ मिल चुनाव लड़ रही है। उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में मतदान (UP assembly elections)  होंगे। चुनाव आयोग की ओर से जारी किए शेड्यूल में कहा गया है कि यूपी में पहले चरण की वोटिंग 10 फरवरी, दूसरे चरण की 14 फरवरी, तीसरे चरण की 20 फरवरी, चौथे चरण की 23 फरवरी, पांचवे चरण की 27 फरवरी, छठे चरण की 3 मार्च और सातवे चरण की वोटिंग 7 मार्च को होगी। वहीं, वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी।