देश में लाउडस्पीकर विवाद ने हिन्दू मुस्लिम समुदाय में बवाल मचा रखा है। एक धर्म युद्ध जैसा देश में जंग शुरू हो गई है। लाउडस्पीकर बंद कराने की जिद्द में हिन्दूओं ने मंदिरों में हनुमान चालीसा पढ़ना शुरू कर दिया है। दरअसल में, महाराष्ट्र की तर्ज पर कर्नाटक में भी लाउडस्पीकर को लेकर अभियान की शुरुआत हो गयी है। कर्नाटक में मंदिरों में सुबह 5 बजे ही हनुमान चालीसा पढ़ी गई।


यह भी पढ़ें- 2023 चुनाव की तैयारियों जुटी पार्टियां, UDP में 7 विधायक शामिल होने की संभावना

जानकारी के लिए बता दें कि श्री राम सेना के प्रमुख प्रमोद मुथालिक ने 15 दिन पहले चेतावनी दी थी कि यदि लाउडस्पीकर को ले कर कोर्ट के आदेश का पालन नहीं हुआ, तो 9 मई से कर्नाटक में मंदिरों से भी लाउडस्पीकर से भजन कीर्तन और हनुमान चालीसा का पाठ शुरू किया जाएगा।


यह भी पढ़ें- सांसद प्रो. राकेश सिन्हा ने सेंग खासी संस्थानों के प्रति सरकार की 'उदासीनता' से कराया अवगत


लाउडस्पीकर से हुए भजन कीर्तन


हिंदू नेता के इसी अभियान के तहत कर्नाटक के अलग-अलग हिस्सों से लाउड स्पीकर के विरोध में भजन कीर्तन की तस्वीरें आने लगी है। श्री राम सेना प्रमुख प्रमोद मुथालिक ने खुद इस अभियान की शुरुआत मैसूरु में की। उन्होंने सुबह 5 बजे मैसूर जिले के एक मंदिर में कार्यक्रम का उद्घाटन किया। उन्होंने दावा किया कि मस्जिदों में अजान के खिलाफ 1,000 से अधिक मंदिरों में हनुमान चालीसा पढ़ी गई।


श्री राम सेना प्रमुख ने शुरू की अभियान

श्री राम सेना प्रमुख के अभियान के चलते हिंदू कार्यकर्ताओं ने सोमवार को राज्य भर में अजान के खिलाफ हनुमान चालीसा पढ़ने का अभियान शुरू किया है, जिसके बाद कर्नाटक पुलिस हाई अलर्ट पर है। पुलिस ने उन कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया है, जो बेंगलुरु के एक मंदिर में हनुमान चालीसा का जाप शुरू करने के लिए तैयार थे।

'कानून से ऊपर कोई नहीं'

उन्होंने दावा किया कि मरीजों, छात्र सुबह की अजान से परेशान हैं. कांग्रेस ने मुसलमानों को यह महसूस कराया है कि वे कानून से ऊपर हैं। कांग्रेस ने भी मुसलमानों का डर पैदा किया है। कानून को बरकरार रखा जाना चाहिए और कोई भी कानून से ऊपर नहीं है। कार्यकर्ताओं ने भक्ति प्रार्थना शुरू की और 'जय श्री राम', 'जय हनुमान' और 'भारत माता की जय' के नारे लगाए।