हाल ही में एक संवाद से जुड़े होने की खबरों को कामरूप ग्रामीण जिले के पुलिस अधीक्षक पार्थ सारथी महंत ने सीधे तौर पर खंडन किया है। आज आयोजित एक पत्रकार सम्मेलन में उन्होंने कहा कि इस मामले से उनका दूर-दूर तक कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने सुपारी सिंडिकेट के संदर्भ में प्रकाशित खबरों के आधार पर पुलिस महानिदेशक के निर्देशों के अनुसार बाईहाटा चारआलि में थानाप्रभारी को सो मोटो केस दर्ज करने को कहा है।


प्रकाशित खबरों के आधार पर थाने में केस संख्या 311/19 भादवि की धारा 120/109/420/409 के तहत मामला दर्ज कर सीआरपीसी की धारा 91 के तहत संबंधित संवाद माध्यम को उनके पास मौजूद तथ्य व जानकारी मुहैया कराने तथा जांच में सहयोग करने हेतु एक नोटिस जारी किया गया। महंत ने कहा कि नोटिस जारी करने के बावजूद पुलिस को इस मामले की तह तक जाने के लिए किसी तरह का कोई सहयोग नहीं मिला।


इस मामले की जांच का जिम्मा कामरूप ग्रामीण जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजीव सैकिया को दिया गया है। साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि जिस तरह संवाद माध्यम द्वारा उन पर तथा उनकी पत्नी इंद्रानी बरुवा महंत का नाम सिंडिकेट से जोड़ा गया है, अगर संबंधित संवाद माध्यम प्रमाण कर देता है तो वे अपनी पेशा त्याग देंगे। साथ ही महंत दंपति ने कोर्ट में अलग-अलग आपराधिक मानहानि का मामला भी दर्ज कराया है।