लोकप्रिय शिक्षक खान सर (Khan Sir) और पांच अन्य शिक्षकों के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद बिहार के कुछ नेता घबरा गए हैं। राजनेताओं का कहना है कि लोकप्रिय शिक्षकों के खिलाफ मामला दर्ज करने के बाद इस अघोषित आंदोलन और ज्यादा भडक़ा सकता है। बता दें कि रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) (RRB) की नॉन टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (एनटीपीसी) परीक्षा परिणाम  (RRB NTPC result) को लेकर बिहार के पटना में छात्रों ने जमकर प्रदर्शन किया था और इसके चलते ही खान सर पर मामला दर्ज हुआ था। 

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने कहा कि खान सर पर मामला दर्ज होने से स्थिति और बिगड़ सकती है। उनका कहना है कि खान सर छात्रों में काफी लोकप्रिय हैं, ऐसे में छात्र भडक़ जाएंगे।  उन्होंने कहा कि संविधान में किसी को हिंसा और तोडफ़ोड़ का अधिकार नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि समय आ चुका है अब सरकार को रोजगार के विषय में बात करनी चाहिए, नहीं तो भयानक परिणाम सामने आ सकते हैं।  इससे पहले मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) ने भी खान सर के खिलाफ मामला दर्ज करने को गलत ठहराया था।

बता दें कि हिरासत में लिए छात्रों का कहना है कि सोशल मीडिया पर एक वायरल वीडियो देखने के बाद वे हिंसा और दंगा करने की शह मिली थी, जिसमें खान सर को कथित तौर पर आरआरबी एनटीपीसी परीक्षा (RRB NTPC exam) रद्द नहीं होने पर छात्रों को सडक़ पर आंदोलन करने के लिए उकसाते हुए देखा गया था। वहीं छात्रों के प्रदर्शन के बाद खान सर का कहना था कि आरआरबी (RRB) ने जो अभी फैसला लिया है, अगर वो 18 तारीख को ही ले लिया जाता, तो यह नौबत नहीं आती, लेकिन आज एक अच्छा कदम यह उठाया है कि 16 फरवरी तक सभी स्टूडेंट से सुझाव मांगा है।