बंगाल में देवी सीता पर तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी द्वारा अपमानजनक टिप्पणी किए जाने को लेकर सियासी बवाल मचा हुआ है। भाजपा ने तृणमूल सांसद के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। 

दरअसल एक वायरल वीडियो में कल्याण बनर्जी ये कहते हुए पाए गए कि, 'सीता ने भगवान राम से कहा कि अच्छा हुआ मेरा हरण रावण द्वारा किया गया था न कि उनके अनुयायियों द्वारा, नहीं तो मेरा हश्र भी हाथरस जैसा होता।' तृणमूल कांग्रेस के सांसद इस वायरल वीडियो पर सियासी बवाल मच गया है।आरोप है कि वीडियो में बनर्जी ने देवी सीता को लेकर अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया है। जिसके बाद हावड़ा के गोलाबाड़ी थाने में उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई। वहीं, तृणमूल सांसद के बयान पर भाजपा नेताओं ने जोरदार हमला बोला है इसमें संबित पात्रा, तथागत राय, लॉकेट चटर्जी आदि शामिल हैं।

उधर, कल्याण बनर्जी के बयान पर भाजयुमो के सदस्य आशीष जायसवाल ने एफआइआर दर्ज कराई है। आशीष के मुताबिक, बनर्जी के बयान से हिंदू के साथ बंगाली समाज आहत हुआ है। इसीलिए हमने शिकायत दर्ज कराई है। हम चाहते हैं कि वह माफी मांगे। वहीं, हावड़ा में मैथिली समाज के सदस्य अभय कुमार झा ने कहा कि हम कल्याण बनर्जी के बयान की निंदा करते हैं। अगर वह 24 घंटे के भीतर माफी नहीं मांगते हैं तो हम उनके खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करेंगे।

वहीं, तृणमूल सांसद के बयान पर भाजपा नेताओं ने जोरदार हमला बोला है इसमें संबित पात्रा, तथागत राय, लॉकेट चटर्जी आदि शामिल हैं। उन्होंने कहा है कि कल्याण बनर्जी के बयान से पूरा हिंदू समाज आहत हुआ है तथा 2021 के बंगाल विधानसभा चुनाव में लोग इसका जवाब देंगे। लॉकेट चटर्जी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि महिला मुख्यमंत्री होने के बावजूद बंगाल में सबसे ज्यादा दुष्कर्म होते हैं। उन्हें पहले अपने राज्य को देखना चाहिए और फिर यूपी, राजस्थान या बिहार को देखना चाहिए।

लॉकेट चटर्जी ने तृणमूल के बयान पर कहा कि वह हमारी परंपरा, रामायण और महाभारत का अपमान कर रहे हैं। इसका जवाब उन्हें 2021 में मिलेगा। वहीं, भाजपा नेता और मेघालय के पूर्व राज्यपाल तथागत रॉय ने भी बनर्जी के बयान की निंदा की है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि तृणमूल सांसद के बयान की जितनी निंदा की जाए वह कम है। उन्हें इसके लिए पूरे हिंदू समाज से माफी मांगी चाहिए।