छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल पर FIR दर्ज होगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि कानून से ऊपर कोई नहीं है। चाहे वो मेरे 86 साल के पिता ही क्यों न हों। छत्तीसगढ़ सरकार हर जाति, हर धर्म, हर वर्ग हर समुदाय के लोगों के सम्मान करती है। दरअसल, सीएम के पिता ने ब्राह्मण समाज को लेकर आपत्तिजनक बात कही थी।

नंद कुमार बघेल के बयान के बाद से ब्राह्मण समाज आक्रोशित है। विपक्षी पार्टी बीजेपी लगातार नंद कुमार बघेल के बयान की कड़ी निंदा कर रही है और विरोध प्रदर्शन कर रही है। ब्राम्हण समाज भी खुलकर विरोध कर रहा है। एक रैली में नंद कुमार बघेल के पुतले को घसीटा गया और लात घूसे मारे गए। लोग नंद कुमार बघेल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई करने की मांग की रही थी। इसके बाद अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को एफआईआर दर्ज करने का आदेश देना पड़ा।

वहीं छत्तीसगढ़ में बीजेपी के मामलों की प्रभारी डी पुरंदेश्वरी के ‘थूकने’ वाले बयान को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को ‘किसानों का अपमान’ बताया और भाजपा से ‘माफी’ की मांग की। राज्य के दक्षिण क्षेत्र के नक्सल प्रभावित बस्तर जिले में बीजेपी ने 31 अगस्त से दो सितंबर चिंतन शिविर का आयोजन किया था. शिविर के अंतिम दिन पार्टी की राज्य प्रभारी डी पुरंदेश्वरी ने बस्तर संभाग के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था, “एक बार अगर बीजेपी कार्यकर्ता पीछे मुड़कर थूकेंगे तब उसमें भूपेश बघेल और उनका पूरा मंत्रिमंडल बह जाएगा।” पुरंदेश्वरी के बयान के बाद मुख्यमंत्री ने पलटवार किया था और कहा था कि बीजेपी में जाने के बाद पुरंदेश्वरी की मानसिक स्थिति इस स्तर पर उतर गई है।