तुर्की से मदद के लिए हाथ फैलाते पाकिस्तान ने अब आत्मनिर्भर होने के फैसला किया है और आर्थिक आत्मनिर्भरता का नायाब तरीका निकाला है। वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान का अपने फैसले की वजह से मजाक बन रहा है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने सरकारी आवास आम लोगों को किराए पर देने का फैसला किया है। अब यहां कल्चरल, फैशन और एजुकेशनल प्रोग्राम समेत अन्य इवेंट के लिए लोग इसे रेंट पर ले सकेंगे।

पैसे जुटाने का ये अजीबोगरीब फैसला इमरान सरकार ने पहली बार नहीं लिया है, कभी जमीन तो कभी जमीर बेचकर भी इमरान चवन्नी से चांद खरीदने का ख्वाब देखते रहते हैं। साल 2018 में 8 भैंसों को बेचकर 23 लाख रुपए जुटाए। साल 2018 में ही इमरान ने 102 कारों को नीलाम कर दिया।

इमरान खान के इस स्टंट के पीछे की कहानी भी जानना आपके लिए बेहद जरुरी है। आवाम दाने दाने को मोहताज है और इस बर्बाद हुकूमत के सुल्तान इमरान खुद आलीशान महल में रहते हैं। इमरान खान के इस सरकारी घर नाम बनी गाला है।

बनी गाला स्टेट साढे 7 एकड़ में फैला है, बनी गाला पहाड़ की चोटी पर है जहां से चारों तरफ खूबसूरत वादियां फैली हैं। बनी गाला में एक बोटैनिकल गार्डन है और साथ ही एक झील भी मौजूद है। स्विमिंग पूल, टेनिस कोर्ट और बाकी एशो आराम से लैस बनी गाला को पाकिस्तान का सबसे आलीशान बंगला भी कहा जाता है।

इसी महल से इमरान ने पाकिस्तानी आवाम को सपने दिखाए थे कि वो आएंगे तो साथ में नया पाकिस्तान लाएंगे। लेकिन इमरान के प्रधानमंत्री बनते ही पाकिस्तान गरीबी से कंगाली में डूब गया और इसका बात को खुद पाकिस्तान की संसद ने कबूला है।

पाकिस्तान की संसद में पेश रिपोर्ट के मुताबिक हर पाकिस्तानी पर 1 लाख 75 हजार का कर्ज है। पिछले 2 साल में हर पाकिस्तानी पर 54 हजार रुपए  यानी 46 फीसदी कर्ज बढ़ा है। आर्थिक मोर्चे पर फेल इमरान अवाम को कश्मीर राग सुनाकर बहकाने में लगे हैं लेकिन कई लोग इमरान के जुमलों को पहचान चुके हैं।