कोरोना काल में देश को बहुत ही नुकसान का सामना करना पड़ा है। कोरोना महामारी से जन-माल की हानि हुई है। लेकिन केंद्र सरकार ने कोरोना काल में हुए नुकसान की भरपाई कर रही है इसी के साथ देश को भी दीपावली के त्यौहार में सौगात दे रही है। इस सौगात में   केंद्र ने अर्थव्यवस्था को दिवाली से पहले एक और बूस्टर दिया है। जिसमें जनहित के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को लॉन्च किया है। इस योजना के तहत सरकार पलायन कर रहे मजदूरों के लिए खास तरह का पोर्टल लेकर आई है।


आत्मनिर्भर भारत 3.0 योजना
निर्मला सीतारमण ने कहा कि अर्थव्यवस्था में रिकवरी हो रही है। आत्मनिर्भर भारत 3.0 योजना में किसानों को नाबार्ड के जरिये इमरजेंसी कैपिटल फंड के  दिया जाएगा। डिस्कॉम और उद्योगों को कर्ज देने के लिए करीब 1,182,73 रुपये करोड़ 22 राज्यों को कर्ज बांटने के लिए वितरित किये गये हैं। इसी के साथ वित्त मंत्री ने NBFC / HFC के लिए विशेष तरलता योजना के तहत 7,227 करोड़ रुपये दिए गए इसी के साथ देश-एक राशन कार्ड अब 28 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू हो चुका है।


तंदरूस्त इकॉनमी
सुस्ती इकॉनमी को तंदरूस्त बनाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 2,65,080 करोड़ रुपये पैकेज की घोषणा की है। जिसमें खास फर्टिलाइजर के लिए 65,000 करोड़ रुपये की सब्सिडी और 14 करोड़ किसानों के फायदे के लिए जारी किया है। देश में महामारी के खिलाफ कोरोना वैक्सीन के शोध एवं विकास के लिए 900 करोड़ रुपये का प्रावधान साथ ही कैपिटल और इंडस्ट्रियल एक्सपेंडीजर के लिए अतिरिक्त 10200 करोड़ रुपये का प्रावधान दिए जाएंगे। बता दें कि आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 के तहत कुल 2,65,080 करोड़ रुपये के 12 उपायों की घोषणा है।