कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चिंता बढ़ती जा रही है. मुंबई में बुधवार को 532 नए केस दर्ज किए गए. जुलाई के बाद नए मामलों में ये सबसे बड़ा इज़ाफा है. इससे पहले 15 जुलाई को यहां कोरोना के 528 नए मरीज़ मिले थे. 

उधर पूरे महाराष्ट्र की बात की जाए तो यहां बुधवार को कोरोना वायरस के 4,174 नए मामले सामने आए और 65 लोगों की मौत हो गई, जिससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 64,97,872 हो गई और मृतकों की संख्या 1,37,962 हो गई.

 

मुंबई में न सिर्फ करीब दो महीने के बाद नए केस में इज़ाफ़ा देखा गया है, बल्कि यहां पॉजिटिविटी रेट भी बढ़ गई है. पॉजिटिविटी रेट अब 0.9 से 1.1% पर पहुंच गई है. जबकि ये रेट अगस्त के तीसरे हफ्ते तक 0.5-0.7% के बीच थी. मुंबई में अब पिछले 7 दिनों का औसत केस 434 हो गया है. जबकि 18 अगस्त को ये आंकड़ा सिर्फ 253 था. ये आंकड़े इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि मुंबई में तीसरी लहर का खतरा बढ़ गया है.

मुंबई में पिछले दो महीने के दौरान ही लोकल ट्रेनों को भी खोला गया है. इसके अलावा यहां कुछ स्कूल भी खुल गए हैं. अधिकारियों ने किसी भी नए प्रतिबंध को तुरंत वापस लाने से फिलहाल इनकार किया है, लेकिन उन्होंने कहा कि वे स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं और स्थानीय अधिकारियों को लोगों को भीड़ लगाने से रोकने का निर्देश दिया है, खासकर गणेश चतुर्थी त्योहार के दौरान.

स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ प्रदीप व्यास ने बुधवार को राज्य मंत्रिमंडल के सामने कोविड की स्थिति पर एक प्रजेंटेशन दिया. इस दौरान उन्होंने कहा कि दैनिक मामलों में कोई वृद्धि नहीं हुई है, लेकिन टेस्ट में काफी कमी आई है. पहले, राज्य एक दिन में दो मिलियन से अधिक टेस्ट करता था, जिसे घटाकर लगभग 1.7 मिलियन प्रतिदिन कर दिया गया है. इसका मतलब ये भी है कि एक्टिव मामले आज हम जो देख रहे हैं, उससे अधिक हो सकते हैं.