भारत में हो रहे किसान आंदोलन की आवाज अब अमरीका तक जा पहुंची है। कनाडा के प्रधानमंत्री के बाद अब अमरीका के सांसदों ने भी किसान आंदोलन को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। सात प्रभावशाली अमरीकी सांसदों के समूह ने अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को पत्र लिखकर कहा है कि अपने भारतीय समकक्ष के साथ भारत में चल रहे किसान आंदोलन के मामले को उठाएं। इस समूह में भारतीय मूल की अमरीकी सीनेटर प्रमिला जयपाल भी शामिल हैं। वहीं भारत ने विदेशी नेताओं और राजनैतिकों के बयान का जवाब देते हुए इसे गलत सूचित और अनुचित बताया है।

वहीं दूसरी तरफ  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज किसानों के खाते में पीएम किसान सम्मान निधि योजना की अगली किस्त भेजी। इसके तहत 9 करोड़ किसानों के खाते में 18000 करोड़ रुपये भेजे जा रहे हैं। पीएम मोदी देश के 6 राज्यों के किसानों के साथ वर्चुअल संवाद कर रहे हैं। गौरतलब है कि आज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती भी है। यह पीएम किसान योजना की सातवीं किस्त होगी। 

दूसरी तरफ आज बड़ी संख्या में दिल्ली कूच कर रहे किसान, प्रशासन अलर्ट दूसरी ओर कृषि सुधार कानून के विरोध में आज जिले से बड़ी संख्या में किसान दिल्ली को कूच कर रहे हैं। सुबह सात बजे से ही किसानों ने योजनाबद्ध तरीके से दिल्ली कूच शुरू किया। जिला प्रशासन भी किसानों संगठनों और धर्म गुरुओं से संपर्क साधकर इस बात की कोशिश कर रहा है कि किसान कम से कम संख्या में दिल्ली जाने के लिए निकलें हालांकि प्रशासन की इस कोशिश का बहुत अधिक असर होता नहीं दिख रहा है। गौरतलब है कि कृषि कानून के विरोध में देशभर के किसान पिछले 29 दिनों से दिल्ली की सीमा पर जमे हुए हैं। समय-समय पर जिले के किसान दिल्ली की सीमा पर पहुंचने की कोशिश करते हैं। कई किसान नेता पिछले कई दिनों से दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं।