केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल ने किसानों के साथ बैठक के लंच ब्रेक में खाया लंगर।  किसानों ने दिया लंगर केंद्र सरकार ने लगाए चटकारे।

कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का आज 35वां दिन है। किसान को शांत करने के लिए केंद्र सरकार और किसान संगठनों की विज्ञान भवन बैठक में हो रही है। इतने दिनों के बाद से किसानों ने केंद्र के साथ बातचीत तो कर रहे हैं लेकिन क्या सरकार किसान जिस एजेंडा पर बात करना चा रहे हैं  उन पर बात बन पाएगी या नहीं इसके बारे में अभी तक किसी भी तरह का खुलासा नही हुआ है। लेकिन कुछ मांगों पर किसान की सरकार ने मान की ली है। वैसे किसान अपनी मांग पर कायम हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ विज्ञान भवन में कृषि कानूनों पर किसान नेताओं बातचीत जारी है। बातचीत के दौरान ही वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने इशारा किया है कि आज नतीजा निकलने की उम्मीद है। जिससे किसान आज आंदोलन खत्म हो जाएगा। लेकिन यह अभी भी पुख्ता नहीं हुआ है कि  किसान केंद्र की बातों से सहमत हो जाएंगे।  
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है कि भाजपा सरकार चंद अमीर मित्रों के फायदे के लिए पूरे देश के किसान को न ठगे और भारत का राजनीतिक नेतृत्व इतना बंजर कभी न था जो आज हो गया है। मोदी जी देश की जमीन बिकाऊ नहीं है। भारतीय किसान यूनियन भाकियू के राकेश टिकैत ने कहा कि विपक्ष भी उनके साथ सड़कों पर बैठे और आंदोलन करे।