1945 का सरकारी कागजात दिखाने के बाद भी तिनसुकिया के प्रजापति दंपति संदिग्ध भारतीय नागरिक होने के आपोप में जेल रूपी डिटेंशन कैंप में बंद हैं जबकि न्यायालय द्वरा विदेशी घोषित व्यक्ति का नाम एनआरसी ड्राफ्ट में आ गया है।


एक विदेशी का नाम इस प्रकार एनआरसी में पाए जाने को लेकर दरंग जिले के दलगांव में व्यापक प्रतिक्रिया हो रही है। इस संबंध में दलगांव पंचायत कार्यालय परिसर में स्थित एनआरसी सेवा केंद्र से एक सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है।


एनआरसी का पूर्णांग ड्राफ्ट के प्रकाशन के करीबन 22 दिन बाद एनआरसी की विश्वसनीयता पर बड़ा प्रश्न चिन्ह खड़ा हो गया है। सबी के ज्ञात में कोर्ट द्वारा विदेशी घोषित एक व्यक्ति और उसके परिवार के सभी सदस्यों का नाम एनआरसी के पूर्णांग ड्राफ्ट में आ गया।


इस संबंध में उक्त केंद्र के एक अधिकारी ने बताया कि -RN नंबर 101832502149051401674 के द्वारा दलगांव खुटी गांव के बक्कर अली और उसके परिवार के चार अन्य सदस्यों ने एनआरसी के लिए आवेदन किया।


आवेदन प्रक्रिया के अंत में दलगांव सीमांत पुलिस ने उन्हें संदिग्ध विदेशी बताकर उनके आवेदन को रद्द कर दिया। फिर भी उनका नाम एनआरसी ड्राफ्ट में आ गया। सीमांत पुलिस ने बताया कि उन्हें मालूम नहीं यह सब कैसे हुआ।