दार्जिलिंग शहर शनिवार देर रात फिर विस्फोट से दहल उठा। सुखिया पुलिस चौकी के नजदीक हुए धमाके से पूरे इलाके में दहशत फैल गई। 

घटनास्थल से बड़े पैमाने पर छर्रे मिले हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि विस्फोटक आईईडी था। घटना की जांच की जा रही है। 

घटना के संबंध में यूएपीए एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस का अनुमान है कि विस्फोट कराने वालों के निशाने पर पुलिस चौकी थी। इससे पहले कलिम्पोंग थाने के नजदीक आईईडी विस्फोट हुआ था। 

विस्फोट में एक सिविक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी। एक होमगार्ड का जवान घायल हो गया था।

81वें दिन से बंद जारी

अलग गोरखालैंड राज्य को लेकर दार्जिलिंग के पहाड़ी क्षेत्रों में 81 दिनों से बंद जारी है। क्षेत्र में तनाव की स्थिति है। गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के आंदोलन के दौरान जिले में हिंसक झड़प और विस्फोट की कई घटनाएं घट चुकी हैं।

जीजेएम प्रमुख गुरुंग की तलाशी तेज

भगोड़ा घोषित मोर्चा प्रमुख विमल गुरुंग राज्य छोड़कर सिक्किम भाग गए हैं। दार्जिलिंग पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए एक बार सिक्किम में छापेमारी कर चुकी है। तब सिक्किम पुलिस से बंगाल पुलिस की धक्का-मुक्की भी हुई थी। 

सिक्किम पुलिस पर बंगाल पुलिस ने असहयोग करने का आरोप लगाया है। लुकआउट नोटिस जारी होने के बाद पुलिस जोरशोर से गुरुंग की तलाशी में लगी है। उन पर कई मामलों में अनलॉफुल एक्टिविटिज (प्रिवेंशन) एक्ट (यूएपीए) के तहत मामला दर्ज किया गया है।