महाराष्ट्र के तमाम इलाकों से अब भी प्रवासियों का पलायन जारी है।  उत्तर भारत की ट्रेनों के लिए भीड़ उमड़ रही है और टिकटों की लंबी वेटिंग है।  मध्य रेलवे के साथ अब पश्चिम रेलवे भी यात्रियों को कन्फर्म टिकट दिलाने के लिए अतिरिक्त समर स्पेशल ट्रेनें चलाने वाली है।  जिन यात्रियों को टिकट नहीं मिल रहे हैं, वे रेलवे की बुकिंग वेबसाइट पर नजर बनाए रखें क्योंकि नियमित तौर पर अतिरिक्त ट्रेनों को जोड़ा जा रहा है। 

पश्चिम रेलवे ने मुंबई से विभिन्न स्थानों के लिए 38 समर स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं।  इन ट्रेनों से यात्रियों को 196 सेवाएं प्राप्त होंगी।  पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर के अनुसार फिलहाल कुल 266 रेग्‍युलर स्‍पेशल ट्रेनें परिचालित की जा रही हैं। 

इसके अतिरिक्‍त बढ़ती मांग और यात्रियों की सहूलियत के लिए 38 समर स्पेशल ट्रेनों की 196 फेरी चलाने की भी घोषणा की गई है।  ठाकुर ने बताया कि प्राथमिकता के आधार पर यात्रा मांग को पूरा करने के क्रम में उत्तर प्रदेश, बिहार तथा पूर्वी भारत के क्षेत्रों के लिए 10 अप्रैल 2021 से 17 विशेष समर स्‍पेशल ट्रेनों की 61 फेरी की घोषणा की जा चुकी है। 

पश्चिम रेलवे की तरफ से चलाई जा रही इन अतिरिक्त ट्रेनों के कारण यात्रियों को रोजाना 6,500 बर्थ/सीटें मिल सकेंगी।  इसका मतलब है, इस महीने के अंत तक 96,110 अतिरिक्‍त सीटें/बर्थ का इंतजाम होने जा रहा है।  यह उपरोक्‍त क्षेत्रों के लिए प्रतिदिन औसतन 20 ट्रेनों में 30,000 बर्थ/सीटें अतिरिक्‍त हैं। 

समर स्पेशल ट्रेनों के अलावा, रेलवे ने 30 जोड़ी त्‍योहार स्‍पेशल ट्रेनों को 30 जून 2021 तक विस्‍तारित किया है, इनमें से 13 जोड़ी ट्रेनें देश के उत्तरी और पूर्वी भागों की सेवा में परिचालित की जा रही हैं।  इसके अलावा, पश्चिम रेलवे ने अप्रैल 2021 में अतिरिक्‍त भीड़ को कम करने के उद्देश्‍य से वर्तमान ट्रेनों में 233 से अधिक अतिरिक्‍त डिब्‍बे जोड़ने का निर्णय लिया है, जबकि पिछले मार्च 2021 में पश्चिम रेलवे ने अतिरिक्‍त भीड़ कम करने के लिए वर्तमान ट्रेनों में अस्‍थायी रूप से 575 अतिरिक्‍त डिब्‍बे जोड़े थे। 

रेलवे ने कहा कि यात्रियों की भीड़ को देखते हुए रियल टाइम बेसिस पर नियमित एवं विशेष ट्रेनों की प्रतीक्षा सूची की मॉनिटरिंग की जा रही है तथा इसी के अनुरूप प्रतीक्षा सूची को क्‍लीयर करने के अतिरिक्‍त नई स्‍पेशल ट्रेनें चलाने की योजना तैयार की जाएगी।  1 अप्रैल से 15 अप्रैल 2021 के दौरान विभिन्‍न गंतव्‍यों के लिए 234 ट्रेनें चलाई गई थीं, जिनमें से 68 ट्रेनों के कुल 246 फेरे उत्तर/पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड, उत्तराखंड और असम की ओर चलाए गए।  उल्लेखनीय है कि 16 अप्रैल 2021 को पश्चिम रेलवे ने 119 ट्रेनें चलाईं, जिनमें से 39 ट्रेनें उत्तरी और पूर्वी राज्‍यों के लिए थीं।