समूचे राज्य को झकझोर कर रख देने वाले बहुचर्चित श्वेता अग्रवाल हत्याकांड के आज एक वर्ष बीत जाने के बाद भी माता-पिता सहित पीड़ित परिवार न्याय की आस लगाए हुए है। हालांकि मामले की सुनवाई कोर्ट में चल रही है। वहीं इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी गोविंद सिंघल, मां कमला देवी सिंघल व बहन भवानी सिंघल जमानत पर रिहा हैं।

मेधावी छात्रा श्वेता अग्रवाल हत्याकांड के आज एक साल होने पर न्याय की मांग को लेकर शाम 5 बजे मणिपुर बस्ती स्थित शिव मंदिर के पास मोमबत्ती जलाकर शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान श्वेता के माता-पिता, परिजन, स्थानीय लोगों के अलावा महिला समिति की सदस्य तख्तियां लेकर श्वेता को न्याय देने की मांग कर रहे थे। साथ ही श्वेता हत्याकांड मामले को फास्ट ट्रैक की अदालत में स्थानांतरित करने व आरोपियों को दंडित करने जैसे नारे सुनाई पड़ रहे थे।

श्वेता अग्रवाल के पिता ओमप्रकाश अग्रवाल ने कहा कि उनकी लाडली बेटी की हत्या करने वाले आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं और कोर्ट से उन्हें तारीख पर तारीख मिल रही है। फिर भी हमें न्यायालय पर पूरा विश्वास है और हमें न्याय जरुर मिलेगा तथा श्वेता की आत्मा को शांति मिलेगी। उन्होंने कहा कि आगामी 7 दिसंबर को इस हत्याकांड की अगली सुनवाई मुकर्रर की गई है।

इस हत्याकांड के जांच अधिकारी उप निरीक्षक सुदीप चौधरी का बयान दर्ज किया जाएगा।
मालूम हो कि गत वर्ष 4 दिसंबर की शाम श्वेता का शव भरलुमुख के स्लुइस गेट स्थित आरोपी गोविंद सिंघल के घर के बाथरुम से अर्द्धजली अवस्था में बरामद किया गया था। इस घटना के बाद पुलिस ने मामले में आरोपी गोविंद सिंघल, उसकी मां व बहन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस हत्याकांड के प्रकाश में आने के बाद गुवाहाटी ही नहीं समूचे राज्य भर में लोगों का आक्रोश सामने आया था।

वहीं पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए पूर्वोत्तर प्रदेशीय मारवाड़ी सम्मेलन, पूर्वोत्तर प्रदेशीय मारवाड़ी युवा मंच आदि संगठनों ने मौन रैली निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया था।