ब्रसेल्स। यूरोपीय संघ (ईयू) के सदस्य देश रूसी गैस के बिना जिंदगी जीने के लिए तैयार हैं। ये जानकारी यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उसुर्ला वॉन डेर लेयेन ने दी। रूसी गैस आपूर्तिकर्ता गजप्रोम ने बुधवार को घोषणा की कि वह यूरोपीय संघ के दो सदस्य देश पोलैंड और बुल्गारिया के रूबल में भुगतान करने में विफलता के कारण गैस की डिलीवरी पूरी तरह से रोक रहा है।

यह भी पढ़े : Love Horoscope 28 April : ये राशि वाले आज कर दें अपने प्यार का इजहार, इनकी अपने किसी खास से होगी मुलाकात

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 23 मार्च को कहा था कि 'अमित्र देशों' के साथ रूस के मौजूदा गैस अनुबंधों का भुगतान रूबल में किया जाना चाहिए। यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष ने कहा, 'हम यूरोपीय संघ में वैकल्पिक वितरण और भंडारण स्तर सुनिश्चित करने की व्यवस्था कर रहे हैं। साथ ही गैस समन्वय समूह यूरोपीय संघ के देशों को गैस मुहैया कराने के लिए एक रोडमैप बनाने को लेकर बैठक कर रहा है।'

GT vs SRH: राशिद खान और राहुल तेवतिया की ताबड़ोतड़ साझेदारी ने सनराइजर्स हैदराबाद को हराया, आखिरी ओवर में ठोक दिए चार छक्के


यूरोपीय संघ, रूसी गैस और तेल पर अत्यधिक निर्भर है। 8 मार्च को शुरू की गई अपनी 'आरईपॉवरईयू' योजना के माध्यम से वैकल्पिक ऊर्जा आपूर्ति खोजने पर काम कर रहा है। ब्लॉक ने 25 मार्च को अमेरिका के साथ सहमति व्यक्त की कि वह कम से कम 15 अरब क्यूबिक गैस खरीदेगा। ब्लॉक जीवाश्म ईधन से खुद को छुड़ाने और ऊर्जा दक्षता बढ़ाने के लिए अपने हरित संक्रमण को भी तेज कर रहा है।