EPFO ने मल्टी लोकेशन क्लेम सेटलमेंट सर्विस शुरू की है ताकि क्लेम के पैसे जल्द से जल्द लोगों के अकाउंट में आ सके। इसके तहत हर तरह के ऑनलाइन क्लेम चाहे वह प्रविडेंट फंड, पेंशन, आंशिक निकासी और ट्रांसफर से जुड़ा हो, आसानी से निपटाए जा सकते हैं।
श्रम मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि यह सुविधा EPFO कार्यालयों को देश के किसी भी क्षेत्रीय कार्यालय से ऑनलाइन दावों का निपटान करने की अनुमति देकर एक बदलाव लाएगी। कोरोना वायरस ने EPFO के 135 रिजनल ऑफिस में कामकाज को बुरी तरह प्रभावित किया है।
श्रम मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 अडवांस की घोषणा के बाद दावों की संख्या में जबर्दस्त तेजी आई है। संकट के बावजूद मुंबई, थाने, हरियाणा और चेन्नै जोन के ऑफिस कम कर्मचारियों के साथ लगातार खुले हैं, लेकिन उनपर काम का बोझ काफी बढ़ गया है। इन जगहों पर कोरोना का संकट ज्यादा है, जिसके कारण पेंडिंग मामले लगातार बढ़ते जा रहे थे। दूसरी तरफ 50 फीसदी कार्यबल और ऑटो सेटलमेंट मोड की मदद से दूसरे ऑफिस में ये काम 3 दिन में पूरा होने लगे हैं।
ऐसे में सभी क्लेम में तेजी लाने के लिए EPFO ने भौगोलिक क्षेत्राधिकार से हटते हुए मल्टी लोकेशन क्लेम सेटलमेंट फसिलटी की शुरुआत की है। इस तरह दो ऑफिस के बीच काम का बंटवारा होने से दावों के निपटान में तेजी आएगी।
संकट के समय में आधे कार्यबल के बावजूद EPFO के कर्मचारी लगातार बहुत मेहनत कर रहे हैं। एक अप्रैल 2020 से रोजाना 270 करोड़ के 80 हजार क्लेम निपटाए जा रहे हैं। देश में EPFO के कुल सदस्यों की संख्या 6 करोड़ से ज्यादा है।