26 दिनों के युद्घ ने अब बहुत खतरनाक रूप ले लिया है्। युद्ध में मिसाइलों और बम की बारिश से यूक्रेन खंडहर होता जा रहा है। हर तरफ आग और धुंआ ही धुंआ नजर आ रहा है। तबाही लेकिन अब शूरू होगी क्योंकि यूद्ध की अंधाधूंध बमबारी में रूसी सैनिकों ने यूक्रेन के केमिकल प्लांट पर भीषण गोलीबारी और बमबारी कर तबाही को आमंत्रित कर दिया है।

यह भी पढ़ें- हाईकोर्ट कोहिमा बेंच ने NH 29 के कार्य को 30 अप्रैल खत्म करने का दिया निर्देश



 

सूमी क्षेत्रीय सैन्य प्रशासन के प्रमुख दिमित्रो ज्यवित्स्की ने इस बात की जानकारी एक फेसबुक पोस्ट के जरिए दी है। एक अधिकारी के अनुसार रिसाव 21 मार्च को 04:30 बजे शुरू हुआ है। प्रभावित क्षेत्र का दायरा करीब 5 किलोमीटर तक है। ज्यवित्स्की ने बताया कि अमोनिया एक रंगहीन जहरीली विस्फोटक गैस होती है, जिसमें एक अलग तरह की तीखी गंध आती है।
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका का ऐसा मानना ​​​​है कि रूस यूक्रेन में एक फॉल्स फ्लैग ऑपरेशन चलाने की कोशिश में है और उसने यूक्रेन में रासायनिक या बैक्टीरियोलॉजिकल हथियारों का इस्तेमाल करने की योजना बनाई है, ताकि यूक्रेनी पक्ष और पश्चिमी देशों को उसके लिए दोषी ठहरा सके।


यह भी पढ़ें- नागालैंड फिल्म ‘Fight Back’ दीमापुर में रिलीज, 24 मार्च यूट्यूब पर आएगी नजर


दूसरी तरफ यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमीर जेलेंस्की ने मारियुपोल के एक स्कूल पर रूसी बमबारी की निंदा की है, जहां सैकड़ों नागरिकों ने शरण ले रखी थी। जेलेंस्की ने सोमवार तड़के एक वीडियो संदेश जारी कर बताया कि रूसी सेना ने एक कला विद्यालय पर बमबारी की, जिसमें लगभग 400 लोगों ने शरण ले रखी थी।