इंग्लैंड से एक बेहद हैरान कर देने वाला वाकया सामने आया है। यहां एक शख्स लगातार मुर्दाघर में महिलाओं की लाश का रेप करके वीडियो बनाता रहा। उसने करीब 100 महिलाओं के शवों के साथ रेप किया लेकिन किसी को इस बात का पता नहीं चला। यह सब तब हुआ जब आरोपी शख्स उस मुर्दाघर में इलेक्ट्रीशियन का काम करता था। अब करीब 34 साल के बाद उस शख्स को सजा दी गई है।

यह चौंका देने वाली घटना इंग्लैंड के ईस्ट ससेक्स की है। एक रिपोर्ट के अनुसार यह मामला यहां स्थित टाउन हीथफील्ड के एक मुर्दाघर का है। इस शख्स का नाम डेविड फुलर है। करीब 34 साल बाद कोर्ट ने फुलर को महिलाओं की लाश की रेप का दोषी पाया है। इस मामले का पूरा खुलासा भी बाद एही आश्चर्यजनक तरीके से हुआ है। वह 12 साल तक मुर्दाघर में महिलाओं की लाशों के साथ रेप करता रहा और इसके वीडियो भी बनाता था।

खबर है कि फुलर 1987 से 12 साल तक हीथफील्ड अस्पताल के दो मुर्दाघरों में आने वाले शवों का रेप करता रहा। उसने करीब 100 महिलाओं के शवों के साथ रेप किया, लेकिन किसी को इस बात का पता नहीं चला। जांच में सामने आया कि फुलर देर रात तक मुर्दाघर में काम करता रहता था, तब तक दूसरे कर्मचारी चले जाते थे। यहां वह इलेक्ट्रीशियन का काम करता था।

इस मामले का खुलासा तब शुरू हुआ जब फुलर ने 1987 में दो महिलाओं की हत्या कर दी थी। जब इसकी जांच हुई तो वहां फुलर का DNA मिला था, इसके बाद शक के आरोप वह गिरफ्तार हुआ और फिर धीरे-धीरे इस पूरे मामले का खुलासा हो गया। अंत में फुलर ने खुद स्वीकार किया था कि उसने करीब सौ महिलाओं की लाशों के साथ ऐसा किया था।

लंबे समय बाद 2011 में फुलर को फिर से गिरफ्तार किया गया और उसे कुल 51 अलग-अलग मामलों में दोषी पाया गया। दोनों मुर्दाघरों में 78 लाशों की पहचान की गई, जिनके साथ फुलर ने रेप किया था। इतना ही नहीं तलाशी के दौरान फुलर के घर से अश्लील तस्वीरें, लाश के साथ अश्लीलता के वीडियो, हार्ड ड्राइव, फ्लॉपी डिस्क, डीवीडी और मेमोरी कार्ड बरामद किए गए। मामले में जज ने उसे दोषी पाया है, जल्द ही उसे सजा दी जाएगी।