इस वक्त महिलाओं के लिए समय बहुत की खराब चल रहा है क्योंकि हाल ही में हुए यूपी के हाथरस कांड और राजस्थान के अलवर कांड ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है। दलित महिलाओं और सारी महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए एडवाइजरी जारी की है। ताकी महिलाएं अपने आप को देश में असुरक्षित महसूस ना करें।


बता दें कि गृह मंत्रालय ने महिला अपराध के मामलों में पुलिस की कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा है। इसी के साथ महिलाओं के मामलों में लापरवाही न बरतने का दिशा-निर्देश दिया है। बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान व कुछ अन्य राज्यों में महिलाओं के खिलाख हालिया घटनाओं के मद्देनजर रखते हुए गृह मंत्रालय ने यह फैसला लिया है। क्योंकि यह घटनाएं बढ़ती ही जा रही है।

केंद्रशासित प्रदेशों और राज्यों में महिलाओं के साथ दुष्कर्म के मामलों में जल्द एफआइआर दर्ज करने, सबूत जुटाने और समय पर फॉरेंसिक जांच करने का निर्देश दिया गया है। हैरान कर देने वाला फैसला तो ये है कि  मंत्रालय के मुताबिक महिला के खिलाफ अपराध यदि थाने के अधिकार क्षेत्र के बाहर हुआ है तो उस स्थिति में जीरो एफआइआर दर्ज की जाए और अगर महिलाओं के खिलाफ अपराधों में चूक होती है तो अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।