राष्ट्रीय यूनियन के आह्वान पर केंद्र सरकार के खिलाफ एलआईसी की हिस्सेदारी बेचने के विरोध में भारतीय जीवन बीमा निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों ने आज शिमला सहित प्रदेशभर में धरना प्रदर्शन किए और मार्च से संघर्ष तेज करने की चेतावनी देते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी भी दी।


नार्दर्न जोन इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन के बैनर तले मंगलवार को प्रदेश भर में दोपहर सवा 12 से सवा एक बजे तक एलआईसी कार्यालयों के बाहर प्रदर्शन किए गए। एसोसिएशन के सचिव प्रदीप मिन्हास ने कहा कि हिस्सेदारी बेचने के खिलाफ अभी एक घंटे की सांकेतिक हड़़ताल की गई है। केंद्र सरकार फैसले से नहीं पलटी तो अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।


उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को चलाने वाली संस्था को डुबोने का प्रयास किया जा रहा है। जब भी शेयर मार्केट गिरती है तो उसे स्थिर करने का काम एलआईसी करती है। देश में सभी क्षेत्रों में एलआईसी ही निवेश करती है। डेढ़ लाख करोड़ रुपये रेलवे को दिए गए थे। आईडीबीआई बैंक जब डूब रहा था तो इसे टेक ओवर किया गया। देश में 30 करोड़ पालिसी धारकों और 10 करोड़ ग्रुप इंश्योरेंस वालों के एलआईसी पर विश्वास पर केंद्र सरकार हमला कर रही है।