अरबपति उद्यमी और टेस्‍ला के सह-संस्‍थापक एलन मस्‍क ने सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म ट्विटर का अधिग्रहण करने के बाद कर्मचारियों की धड़ाधड़ छंटनी करनी शुरू कर दी। वह ट्विटर के आधे कर्मचारियों की संख्‍या आधी करना चाहते हैं। वहीं, ट्विटर में एक ऐसी महिला कर्मचारी भी है, जिसके आगे एलन मस्‍क की एक नहीं चल रही है। दूसरे शब्‍दों में कहें तो एलन मस्‍क इस कर्मचारी से हार गए हैं और चाहकर भी ट्विटर से बाहर नहीं कर पा रहे हैं।

ये भी पढ़ें- फिरोजाबाद में इन्वर्टर फैक्ट्री में भीषण आग, 3 बच्चों सहित 6 की मौत

ट्विटर में पब्लिक पॉलिसी की ग्‍लोबल वाइस-प्रेसिडेंट सिनेड मैक्‍स्‍वीनी ने आयरलैंड के हाईकोर्ट से उनको सोशिल मीडिया फर्म की नौकरी से निकाले जाने के खिलाफ रोक का आदेश हासिल कर लिया है। आयरिश टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, आयरलैंड में कंपनी की सीनियर एग्‍जीक्‍यूटिव मैक्‍स्‍वीनी ने हाईकोर्ट को बताया कि एलन मस्‍क के ट्विटर का अधिग्रहण करने के बाद से सोशल मीडिया फर्म में काम करना काफी मुश्किल हो चुका है। उन्‍होंने बताया कि इस समय वह सप्‍ताह में 75 घंटे से भी ज्‍यादा काम कर रही हैं, जबकि उनके कॉन्‍ट्रैक्‍ट में 40 घंटे साप्‍ताहिक काम करने की शर्त थी।

मैक्‍स्‍वीनी ने कोर्ट को बताया कि एलन मस्‍क की ओर से नवंबर 2022 की शुरुआत में ट्विटर के सभी कर्मचारियों को एक जेनरिक ई-मेल भेजा गया था। मैंने इस ई-मेल पर कोई प्रतिक्रिया नहीं जताई और अपना काम करती रही। सही से समस्‍या शुरू हुई और मेरे साथ ऐसा व्‍यवहार होने लगा, जैसे मैं ट्विटर का हिस्‍सा ही नहीं हूं। इसके बाद मैक्‍स्‍वीनी को ट्विटर के डबलिन ऑफिस में एंट्री से बैन कर दिया गया। साथ ही उन्‍हें ऑफिस के इंटर्नल आईटी सिस्‍टम्‍स से भी बाहर कर दिया गया। साथ ही उनका कंपनी ई-मेल अकाउंट भी बंद कर दिया गया।

ये भी पढ़ें- असम के मुख्यमंत्री सरमा ने फिर दोहराया, आम नागरिकों पर पुलिस की गोलीबारी उचित नहीं

ट्विटर ने कथित तौर पर आयरलैंड की सीनियर एग्‍जीक्‍यूटिव सिनेड मैक्‍स्‍वीनी को बताया कि उन्‍होंने कंपनी की ओर से दिया गया एग्जिट पैकेज स्‍वीकार कर लिया है। वहीं, मैक्‍स्‍वीनी का कहना है कि उन्‍होंने अब तक ट्विटर से इस्‍तीफा नहीं दिया है। मैक्‍स्‍वीनी के मुकदमा दायर करने पर ट्विटर ने हाईकोर्ट को बताया कि उनकी काम करने की प्रतिबद्धता पर कभी कोई सवाल था ही नहीं। साथ ही कोर्ट को भरोसा दिलाया कि मैक्‍स्‍वीनी को फिर से कंपनी के आईटी सिस्‍टम्‍स का एक्‍सेस उपलब्‍ध करा दिया जाएगा। इसके बाद हाईकोर्ट ने मैक्‍स्‍वीनी को ट्विटर की नौकरी से निकाले जाने के मामले में अंतरिम सुरक्षा प्रदान कर दी।