देश के विभिन्न राज्य जहां जंगल नजदीक हैं वहां जंगली जानवार इंसानों को अपना शिकार बना रहे हैं। इसकी जानकारी केंद्र सरकार ने शुक्रवार को लोकसभा में दी। सरकार ने कहा कि पिछले पांच साल में हाथियों ने 2,000 से अधिक लोगों की, जबकि बाघों ने 200 से अधिक लोगों की जान ली।


पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने निचले सदन में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि पिछले साल हाथियों ने करीब 494 लोगों की जान ली। उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 से 31 मार्च 2019 तक मानव-हाथी संघर्ष में 2,398 लोग मारे गए हैं।


पिछले पांच साल में इस संघर्ष में सबसे अधिक 403 लोग पश्चिम बंगाल में मारे गए हैं। मंत्री ने बताया कि इस मामले में पश्चिम बंगाल के बाद नगालैंड (397 लोगों की मौत) और झारखंड (349 लोगों की मौत) का स्थान आता है।


सुप्रियो ने बाघ- मानव संघर्ष में लोगों के मारे जाने का पिछले पांच साल का आंकड़ा भी साझा किया। आंकड़ों के मुताबिक पिछले पांच साल में बाघ-मानव संघर्ष में 224 लोग मारे गए। इस संघर्ष में पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक 71 मौतें हुई।