इंडोनेशिया के पूर्वी जावा प्रांत में आए भूकंप से कम से कम आठ लोगों की मौत हो चुकी है। इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.1 मापी गई है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन ने इसकी जानकारी दी है। एजेंसी के प्रवक्ता रादित्य जाति ने कहा कि लुमाजंग, मलांग, ब्लिटार, जेम्बर, त्रेंगालेक जैसे कई जिलों में 1,189 घर ध्वस्त हो गए हैं।

स्वास्थ्य व शिक्षा केंद्र, धार्मिल स्थल और कार्यालयों सहित कई सार्वजनिक इमारतें भी नष्ट हो गई हैं। बेघर हुए लोगों के लिए रहने व खाने-पीने की व्यवस्था की गई है। एजेंसी के मुताबिक, 6.1 मैग्नीट्यूड की तीव्रता के साथ यह भूकंप शनिवार दोपहर को दो बजे आया, जिसका केंद्र मलंग जिले के केपाजेन से 96 किलोमीटर दूर दक्षिण में 80 किलोमीटर की गहराई में स्थित था। इंडोनेशिया पिछले कुछ दिनों में कई अन्य प्राकृतिक आपदाओं की चपेट में आया है। इस बीच, पूर्वी नुसा तेंगारा प्रांत में चक्रवात से आई बाढ़ और भूस्खलन के चलते कुछ 167 लोग मारे गए हैं, जबकि 40 से अधिक अन्य अभी भी लापता हैं।

इंडोनेशिया में आए चक्रवात तूफान की चपेट में आने वाले लोगों की मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। इंडोनेशिया के पूर्वी नुसा तेंगारा प्रांत में चक्रवात तूफान सेरोजा से आई बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढकऱ 177 हो गई है, 45 अभी भी लापता है। रिपोर्ट के अनुसार, चक्रवात से मरने वालों में पूर्वी फ्लोरेस के जिलों के 72, लिम्बाटा में 47 और एलोर में 28 लोगों की मौत हुई है।’ प्रांतीय राजधानी कुपांग में छह लोगों की मौत हुई।