लंदन/नई दिल्ली। ब्रिटेन की तेल कंपनी बीपी रूसी पेट्रोलियम कंपनी रोसनेफ्ट से अपनी 20 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ बाहर निकल जाएगी। बीपी के निदेशक तत्काल प्रभाव से रोसनेफ्ट के बोर्ड से इस्तीफा दे देंगे। 

इस बार महाशिवरात्रि पर बन रहा अद्भुत संयोग, ये है शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

बीपी बोर्ड ने रविवार (27 फरवरी) को घोषणा की कि कंपनी रोसनेफ्ट से अपनी 19.75 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ बाहर निकल जाएगी, जो 2013 से उसके पास है। कंपनी ने रविवार को एक आधिकारिक बयान जारी कर कहा, 'बीपी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बर्नार्ड लूनी तत्काल प्रभाव से रोसनेफ्ट के बोर्ड से इस्तीफा दे रहे हैं। बीपी द्वारा नामित अन्य निदेशक, बीपी समूह के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी बॉब डडली भी इसी तरह बोर्ड से इस्तीफा दे रहे हैं।'

बीपी के यह कदम रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध के दौरान रूस के खिलाफ लिया गया प्रमुख कॉर्पोरेट निर्णय है। 

रूस पर प्रतिबंध की कीमत चुकानी पड़ेगी: यूरोपीय संघ 

यूरोपीय संघ के अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने सहमति व्यक्त की है कि यूक्रेन में रूस के सैन्य अभियान के खिलाफ लगाए गए प्रतिबंधों की कीमत चुकानी पड़ेगी। एक टीवी साक्षात्कार के दौरान अध्यक्ष वॉन डेर लेयेन ने कहा, 'हम जानते हैं कि हर युद्ध की कीमत चुकानी पड़ती है।' यूरोपीय संघ के अध्यक्ष के अनुसार, यूरोप यूक्रेन का समर्थन करता रहेगा और यूक्रेन के शरणार्थियों को यूरोपीय संघ में रहने के लिए स्थान दिया जाएगा। 

उन्होंने कहा, 'हम विभिन्न विकल्पों के लिए हफ्तों से तैयारी कर रहे हैं और निश्चित रूप से इन शरणार्थियों का स्वागत करेंगे।' यूरोपीय संघ के विदेश मंत्रियों ने रविवार को कीव में सुरक्षा बलों को 45 करोड़ यूरो (500 मिलियन डॉलर) मूल्य के हथियारों की आपूर्ति करने पर सहमति व्यक्त की। इसके साथ ही अन्य मदद भी दी जा रही है।