एडवांस टैक्स कलेक्शन में काफी सुधार दिख रहा है. वर्तमान वित्तीय वर्ष में सरकार को 54 फीसदी अधिक एडवांस टैक्स (Advance Tax Collection) प्राप्त हुए हैं. इसके साथ ही इस वर्ष अग्रिम कर संग्रह 9.45 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है. वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि चालू वित्त वर्ष में अब तक अग्रिम कर संग्रह 53.50 प्रतिशत बढ़कर करीब 4.60 लाख करोड़ रुपये हो गया है, जो अर्थव्यवस्था में आए सुधार को दर्शाता है. मंत्रालय ने अपने एक बयान में वित्त वर्ष 2021-22 के प्रत्यक्ष कर संग्रह आंकड़े भी जारी किये.

वित्त मंत्रालय ने कहा कि 16 दिसंबर तक शुद्ध संग्रह 9.45 लाख करोड़ रुपये है, जबकि एक साल पहले इसी समयावधि में यह 5.88 लाख करोड़ रुपये रहा था. इस तरह शुद्ध संग्रह में 60.8 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है.

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि वर्ष 2021-22 में अब तक शुद्ध कर संग्रह पिछले साल की समान अवधि के 6,75,409.5 करोड़ रुपये संग्रह की तुलना में 40 प्रतिशत अधिक है. वर्ष 2018-19 में शुद्ध संग्रह 6,70,739.1 करोड़ रुपये रहा था.

चालू वित्त वर्ष की पहली, दूसरी एवं तीसरी तिमाही में कुल अग्रिम कर संग्रह 4,59,917.1 करोड़ रुपये रहा है. पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 16 दिसंबर तक यह आंकड़ा 2,99,620.5 करोड़ रुपये रहा था. इस तरह कुल अग्रिम कर संग्रह इस साल 53.5 प्रतिशत बढ़ा है.

कंपनी टैक्स और इनकम टैक्स की हिस्सेदारी

एडवांस टैक्स के इन आंकड़ों में 3.49 लाख करोड़ रुपये कंपनी कर (Company Tax) और 1.11 लाख करोड़ रुपये व्यक्तिगत आयकर (Income Tax) के हैं. मंत्रालय ने कहा कि इस राशि में बढ़ोतरी होने की भी उम्मीद है, क्योंकि अभी कुछ बैंकों से कर जमा के बारे में सूचना आनी बाकी है. हर साल तीसरी तिमाही के अग्रिम कर जमा करने की आखिरी तारीख 15 दिसंबर होती है.