1 फरवरी से शुरू होने वाले बजट सत्र के साथ, केंद्र को संसद में आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 पेश करेगा। आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा। सभी की नजर आर्थिक सर्वेक्षण पर होगी क्योंकि यह कोविड-19 महामारी के कारण प्रमुख आर्थिक उथल-पुथल बहुत ही ज्यादा हुई है। कोविड-19 महामारी के कारण अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। आर्थिक सर्वेक्षण से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि महामारी के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था पर कितना प्रभाव पड़ा था।


आर्थिक सर्वेक्षण में भारत के आर्थिक सुधार के पाठ्यक्रम के बारे में बताया गया है। सदन के पटल पर प्रमाणिक प्रतियां रखे जाने के तुरंत बाद आर्थिक सर्वेक्षण ऑनलाइन उपलब्ध होगा। इकोनॉमिक सर्वे की कॉपी www.indiabudget.gov.in से डाउनलोड की जा सकती है। आर्थिक सर्वेक्षण मुख्य आर्थिक सलाहकार द्वारा तैयार किया जाता है। मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यम आर्थिक सर्वेक्षण की प्रस्तुति के बाद दोपहर में मीडिया को जानकारी देंगे। इस बीच, बजट 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा।


जानकारी के लिए बता दें कि संसद में कांग्रेस और 15 अन्य विपक्षी दल संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेंगे। विपक्ष के नेता और दिग्गज कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने तीन कृषि कानूनों के विरोध में बहिष्कार की घोषणा की गई है, जो पिछले साल दिसंबर में संसद में पारित किए गए थे, और इसके लिए किसान आंदोलन कर रहे हैं। विपक्ष ने किसानों की यूनियनों और किसानों को एकजुट करने के लिए केंद्र पर (ऑर्केस्ट्रेटिंग’ का आरोप लगाया है जो गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर दिल्ली में भड़की हिंसा थी।