वजन कम करने वालों के लिए फल एक पसंदीदा चीज होती है। फल अत्यधिक पौष्टिक होते हैं, विटामिन और खनिजों, एंटीऑक्सिडेंट और अन्य स्वस्थ यौगिकों से भरपूर होते हैं जो न केवल हमें स्वस्थ्य रखते हैं बल्कि पुरानी बीमारियों से भी बचाते हैं। मीठे खाने वालों के लिए प्राकृतिक चीनी के स्रोत हैं और उनकी क्रेविंग को शांत करते हैं।

हालांकि, जैसा कि हर चीज की अधिकता उलटी हो सकती है, वही फलों के लिए जाता है। क्योंकि अति किसी भी चीज की अच्छी नहीं होती है। यहां हम आपको फलों के स्वस्थ्य लाभ और साइड इफेक्ट्स के बारे में जानकारी दे रहे हैं। आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

जानकारों के अनुसार, फलों का सेवन एक दिन में दो बार स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा हुआ है। ये डाइट हमारे लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकती है।

ब्लडड शुगर लेवल बेहतर रहता है।
हाई ब्लड प्रेशर और खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में फल योगदाम देते हैं।
कुछ प्रकार के कैंसर से बचाव से भी फल हमारा बचाव करते हैं।
फलों के सेवन से स्ट्रोक और हृदय रोग का कम जोखिम रहता है।

फलों के अधिक सेवन से डायरिया का खतरा
दिन में 2 बार से अधिक फलों की डाइट आपके लिए नुकसानदाक हो सकती है। इनके अत्यधिक सेवन से आपको दुष्प्रभाव हो सकते हैं। फल फाइबर और नेचुरल शुगर यानी फ्रुक्टोज से भरपूर होते हैं। हालांकि, तरल पदार्थों के साथ बहुत अधिक फाइबर और कुछ प्रकार की चीनी खाने से कुछ रोगियों में दस्त हो सकते हैं।

​ज्यादा फल खाने से बढ़ सकता है फल
यकीनन वेट लॉस करने वालों के लिए फल का सेवन करना फायदेमंद होता है। वजन पर नजर रखने वाले अक्सर स्वस्थ नाश्ते के रूप में फलों पर भरोसा करते हैं। लेकिन अगर आप इन्हें अधिक मात्रा में लेते हैं वजन बढ़ने का भी कारण बन सकते हैं। क्योंकि कुछ लोग गलती से फलों को यह सोचकर बार-बार खाते हैं कि यह क्रिया स्वाद और पेट दोनों को खुश रखेगी।

उन्हें इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं है कि फलों के अधिक सेवन से चीनी की अधिकता हो सकती है जिससे वजन बढ़ सकता है। हालांकि इसे लेकर बहुत कम शोध हैं जो उच्च फलों की खपत को मोटापे से जोड़ते हैं और इनके खाने से वजन बढ़ने का खतरा बढ़ सकता है।

​बढ़ सकता है ब्लड शुगर का लेवल
ब्लड शुगर का स्तर मधुमेह रोगियों के लिए चिंता का एक गंभीर कारण है - विशेष रूप से टाइप -2 मधुमेह के रोगियों के लिए। जबकि मधुमेह रोगी सावधानी के साथ फलों का सेवन कर सकते हैं। वहीं अधिक फल खाने से ब्लड शुगर लेवल में वृद्धि हो सकती है जो स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है।

​डाइजेशन की समस्या
फलों का आनंद लेते समय, बहुत कम लोगों को इस बात का एहसास होता है कि इसे खाने से पाचन में परेशानी हो सकती है। जी हां, फलों की अधिक मात्रा शरीर में पहुंचने से ब्लोटिंग, गैस, पेट की परेशानी हो सकती है। ऐसा फलों में फाइबर की मात्रा के कारण होता है।