महाराष्ट्र के यवतमाल जिले और आसपास के इलाकों में रविवार को 4.4 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया।  अधिकारियों ने यह जानकारी दी।  पड़ोसी नांदेड़ जिले के जिलाधिकारी डॉ. विपिन इटनकर ने राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के आधार पर बताया कि भूकंप के झटके सुबह 8:33 बजे महसूस किए गए और भूकंप का केंद्र यवतमाल जिले के साधुनगर में था। 

उन्होंने बताया कि भूकंप के झटके नांदेड़ में भी महसूस किए गए।  वहीं आधिकारिक बयान के अनुसार नांदेड़ के जिलाधिकारी पड़ोसी जिले के अधिकारियों के संपर्क में हैं और उन्होंने लोगों से भयभीत नहीं होने का अनुरोध किया है। 

गौरतलब है कि इससे पहले महाराष्ट्र के पालघर जिले में 1 जुलाई को 12 घंटे से भी कम समय में दो हल्के झटके महसूस किए गए थे।  हालांकि इससे जानमाल के कोई नुकसान नहीं हुआ था।  दहानू के तहसीलदार ने बताया था कि 31 जून को रात नौ बजकर 35 मिनट पर 3.1 तीव्रता का झटका महसूस किया गया था। 

इसके बाद 1 जुलाई को सुबह सात बजे 3.7 तीव्रता का कंपन महसूस किया गया था।  पालघर के जिला आपदा नियंत्रण अधिकारी विवेकानंद कदम ने बताया था कि भूकंप का केंद्र डुंडलवाड़ी गांव में था और इससे जानमाल का कोई नुकसान नहीं हुआ।