दिल्ली में कोरोना संक्रमण के  के दौरान जब लोग अपनों को बचाने के लिए किसी पर भी आसानी से विश्वास कर रहे थे।  ऐसे में ऑक्सीजन एवं दवा मुहैया कराने के नाम पर ठगी करने वालों का गैंग भी सक्रिय थे।  ऐसे ही गैंग का भंडाफोड़ दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने किया है जो कि अब तक  60 लाख से रुपए से ज्यादा की ठगी कर चुका था है। 

पुलिस के मुताबिक यह गैंग एक डाकिए की मदद से चल रहा था, जो जालसाज को एटीएम कार्ड की डिलीवरी करता था।  पुलिस ने इस डाकिए को गिरफ्तार कर लिया है।  वहीं, दो अन्य आरोपियों को रानी बाग पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है।  यह गैंग हाल के महीनों में ही 60 लाख रुपये से ज्यादा की ठगी कर चुका था। 

दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त शिबेश सिंह के अनुसार, बीते चार मई को रानी बाग निवासी नंदिनी ने ठगी की शिकायत दर्ज करवाई थी. उसे अपने पड़ोसी के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की आवश्यकता थी, जो कोविड से संक्रमित था। 

सोशल मीडिया से उसे एक नंबर मिला, जो ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराने का दावा कर रहा था. 48 हजार रुपये में उसकी बात तय हो गई।  उसने दो बार में उसके बैंक खाते में 48 हजार रुपये जमा करवा दिए।  इसके बाद उसके नंबर को आरोपी ने ब्लॉक कर दिया. उसकी शिकायत पर रानी बाग थाने में एफआईआर दर्ज की गई। 

शिबेश सिंह के अनुसार, इस तरह से ठगी की कई घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा था।  उस समय लोगों में दवा, ऑक्सीजन आदि की कमी चल रही थी. ऐसे में जालसाज लगातार मरीजों के परिवार से ठगी कर रहे थे. ऐसी शिकायत मौर्या एन्क्लेव और पश्चिम विहार में भी दर्ज की गई है।