इस बार कोलकाता की दुर्गापूजा बहुत ही खास होगी। पहली बार यहां ऐतिहासिक बदलाव होगा। यहां पुरुषों की जगह महिला पुजारी पूजा सम्पन्न करवाएंगी। कोलकाता की 66 पल्ली दुर्गा पूजा कमेटी ने यह निर्णय किया है कि इस साल क्लब की दुर्गा पूजा पुरुष पुजारी की जगह 4 महिला पुजारी संपन्न कराएंगी। पिछले साल के अंत में पूजा समिति के पुरुष पुजारी के निधन के बाद यह निर्णय किया गया है।

लगभग 10 साल पहले, नंदिनी, रुमा, सीमांती और पॉलोमी ने ‘शुभमस्तु’ नाम के एक ग्रुप का गठन किया था। यह समूह सामाजिक और धार्मिक आयोजन करता रहा है। अब यह समूह पहली बार पुजारी के रूप में दुर्गा पूजा की रस्में निभाएगा। समूह से जुड़ी नंदिनी का कहना है कि जब हमने शुरुआत की थी तो इस बारे में सोचा नहीं था। हमने कभी नहीं सोचा था कि हम कभी पुजारी के रूप में पूजा करेंगे। रुमा और मैं संस्कृत के प्रोफेसर हैं और हमने महसूस किया कि युवा पीढ़ी इन अनुष्ठानों में रुचि लेती है और उन्हें बताया जाना चाहिए कि इनका क्या मतलब है।