नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Civil Aviation Minister Jyotiraditya Scindia) ने शनिवार को बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि मध्य प्रदेश (5 drone schools will be opened in Madhya Pradesh) में 5 ड्रोन स्कूल खोले जाएंगे. ये स्कूल इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर और सतना में खुलेंगे. ये स्कूल नागरिक उड्डयन मंत्रालय संचालित करेगा. स्कूल में ड्रोन उड़ाने की ट्रेनिंग दी जाएगी. उनकी इस घोषणा पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने कहा कि सिंधिया ने प्रदेश को 5 ड्रोन स्कूल दिए, इसके लिए उनका आभार. हम संकल्प लेते है कि एमपी को ड्रोन टेक्नोलॉजी में अग्रणी बनाएंगे.

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया शनिवार को ग्वालियर में आयोजित प्रदेश के पहले ड्रोन मेले को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि ड्रोन टेक्नोलॉजी आने वाले वक्त की सबसे बड़ी जरूरत बनेगी. ड्रोन के जरिए स्वास्थ्य सेवाओं, कृषि क्षेत्र, सुरक्षा सहित कई क्षेत्रों में मदद मिलेगी. इनके संचालन की परेशानियां कम करने के लिए मंत्रालय ने नियमों में सरलता की है. युवाओं के लिए ड्रोन उड़ाने की ट्रेंनिग, लायसेंस की प्रक्रिया आसान की गई हैं. उन्होंने कहा शिवराज सरकार ने प्रदेश में ड्रोन टेक्नोलॉजी का अधिकतम उपयोग करने का काम किया है.

ड्रोन टेक्नोलॉजी एक नई क्रांति है- सीएम

गौरतलब है कि प्रदेश के पहले ड्रोन मेले का शुभारंभ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया. उन्होंने कहा कि ड्रोन टेक्नोलॉजी एक नई क्रांति है. खेती में पेस्टिसाइट्स का छिड़काव करना हो, खाद डालना हो, सुदूर स्थानों पर दवाइयां भेजना हो तो ड्रोन काम करेगा. विकास के काम हों, प्राकृतिक आपदा में लोगों की सहायता करना हो या ट्रैफिक कंट्रोल करना हो, सभी में ड्रोन टेक्नोलॉजी सचमुच में वरदान है. आज हमने देखा कि इस टेक्नोलॉजी का कई क्षेत्रों में उपयोग किया जा सकता है. प्रधानमंत्री जी का संकल्प है कि इस टेक्नोलॉजी का अधिकतम उपयोग हो. ज्योतिरादित्य सिंधिया इस मिशन को पूरा करने में पूरी क्षमता से जुटे हैं.