विभिन्न मिसाइल प्रणालियों के लिए लक्ष्य के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले ड्रोन हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (हीट) ‘अभ्यास’ (Abhyas ) का ओडिशा में बंगाल की खाड़ी के तट पर एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) (ITR) चांदीपुर से शुक्रवार को सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया गया। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) (DRDO) द्वारा परीक्षण किये गये मानव रहित हवाई वाहन के प्रदर्शन की निगरानी टेलीमेट्री और रडार एवं इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम (ईओटीएस) सहित विभिन्न ट्रैकिंग सेंसर के माध्यम से की गयी। 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने सफल परीक्षण पर डीआरडीओ (DRDO) को बधाई दी है। यह उड़ान परीक्षण विकासात्मक उड़ान परीक्षणों के एक भाग के रूप में किया गया है। बयान में कहा गया है, वाहन के उत्पादन के लिए रुचि की अभिव्यक्ति पहले ही भारतीय उद्योगों को भेजी जा चुकी है। यह स्वदेशी विमान एक बार विकसित हो जाने के बाद देश के सशस्त्र बलों के लिए ‘हीट’ की आवश्यकताएं पूरी करेगा। डीआरडीओ (DRDO) के वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान (एडीई), बेंगलुरु द्वारा डिजाइन और विकसित, ‘अभ्यास’ को दो अंडर-स्लंग बूस्टर का उपयोग करके लॉन्च किया गया है। 

बयान के मुताबिक ‘अभ्यास’ सबसोनिक गति पर एक लंबी उड़ान को बनाये रखने के लिए गैस टरबाइन इंजन द्वारा संचालित है। इसे पूरी तरह से स्वायत्त उड़ान के लिए प्रोग्राम किया गया है। लैपटॉप-आधारित ग्राउंड कंट्रोल स्टेशन (जीसीएस) का उपयोग करके इसका चेक-आउट किया जाता है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव एवं डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी ने ‘अभ्यास’ के सफल उड़ान परीक्षण से जुड़ी टीमों को बधाई दी और इसकी सटीकता और प्रभावशीलता को देखते हुए इसे सशस्त्र बलों के लिए बहुत उपयोगी करार दिया।