नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने कहा कि हमारे नियम के अनुसार किसी भी व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज एक ही कंपनी के वैक्सीन के दिये जायेंगे।  यानी अगर किसी को कोवैक्सीन की पहली डोज पड़ी है तो दूसरी डोज भी उसी की पड़ेगी, लेकिन अगर किसी व्यक्ति के साथ ऐसा हुआ है कि उसे वैक्सीन के दोनों डोज अलग-अलग कंपनी के वैक्सीन के दिये गये हैं तो भी यह चिंता का विषय नहीं है। 

डाॅ पाॅल ने यह बातें तब कहीं जब उनसे यूपी में एक वृद्ध व्यक्ति को कोरोना के दोनों अलग-अलग टीके जाने के मामले पर सवाल पूछा गया था।  डाॅ पाॅल ने कहा कि यह सेफ है और प्रभावकारी भी।  हम इस तरह के मिक्स और मैच डोज को बनाने पर विचार कर रहे हैं। 

 

देश में कोविड 19 से रिकवरी रेट बढ़कर 90 प्रतिशत हो गयी है जो एक सुखद सूचना है।  शायद यह बात भी सकारात्मक है कि देश के 24 राज्यों में एक्टिव केस की संख्या में कमी आयी है।  उक्त बातें स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने आज मंत्रालय के प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही।