आज से देश में हवाई यात्रा की ज्यादा कीमत हो गई है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने गुरुवार रात हवाई किराये में 12.5 फीसदी की बढ़ोत्तरी करने का निर्णय लिया है। ये निर्णय आज से लागू हो जाएगा। हवाई किराये की मिनिमम और मैक्सिमम दोनों ही वैल्यू पर ये बढ़ोत्तरी की गई है।

इसके साथ ही केंद्र सरकार ने देश में सभी एयरलाइंस को घरेलू उड़ानों की संख्या में 7.5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी करने की इजाजत दे दी है। साथ ही एयरलाइंस कंपनियों को यात्री श्रमता बढ़ाने की भी अनुमति दे दी गई है। अब इन घरेलू उड़ानों में यात्रियों की संख्या कुल सीटों के 65 प्रतिशत से बढ़ाकर 72.5 प्रतिशत कर दी गई है।

बता दें कि, कोरोना महामारी और उसके चलते लगे लॉकडाउन की वजह से हवाई यात्रियों की संख्या में भारी कमी आई थी। जिसके चलते एयरलाइन कंपनियों की कमाई पर भी असर पड़ा था। अब सरकार के इस कदम से इन एयरलाइन कंपनियों को काफी राहत मिलने की उम्मीद है।

इस से पहले 21 जून को भी केंद्र सरकार ने घरेलू उड़ानों के किराये में 15 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की थी। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान घरेलू उड़ानों की संख्या कोविड से पहले के 80 फीसदी से घटाकर 50 फीसदी कर दी थी। महामारी के दौरान नागरिक उड्डयन मंत्रालय लगातार हवाई किराये और हवाई श्रमता को रेग्युलेट करता आ रहा है। जिसका असर एयरलाइंस कंपनियों की कमाई पर देखने को मिला है।

बता दें कि, कोरोना के मामलों में कमी को देखते हुए केंद्र सरकार ने 5 जुलाई से घरेलू उड़ानों में यात्री श्रमता बढ़ाकर 65 प्रतिशत तक कर दी थी। अब इसे एक बार फिर 7.5 फीसदी बढ़ाकर 72.5 प्रतिशत कर दिया गया है।