आयुर्वेद चिकित्सकों को सर्जरी की अनुमति दिए जाने के विरोध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) से जुड़े डॉक्टरों के आज हड़ताल पर होने के कारण बिहार में चिकित्सा सेवा प्रभावित हुई है । आईएमए के आह्वान पर सुबह छह बजे से लेकर शाम छह बजे तक चिकित्सकों के हड़ताल पर होने के कारण राज्य के कई सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा प्रभावित हुई है जबकि निजी अस्पताल, क्लीनिक, डिस्पेंसरी के साथ ही सरकारी अस्पतालों में आपातकालीन चिकित्सा और कोविड से जुड़ी उपचार सेवाएं जारी हैं। 

राजधानी पटना में पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) और नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एनएमसीएच) के ओपीडी में मरीजों के इलाज के लिए रजिस्ट्रेशन का काम सुबह शुरू हुआ था लेकिन कुछ देर बाद ही आईएमए से जुड़े चिकित्सकों ने आकर काउंटर को बंद करा दिया। वहीं पटना में ही इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (आईजीआईएमएस) में हड़ताल का कोई असर नहीं दिखा । वहां सामान्य दिनों की तरह ही मरीजों का इलाज होता रहा। 

राज्य केेेेेे अन्य हिस्सों में भी हड़ताल के कारण चिकित्सा सेवा प्रभावित हुई हैं । आइएमए बिहार के अध्यक्ष डॉक्टर सहजानंद प्रसाद सिंह ने हड़ताल के पूरी तरह सफल होने का दावा किया और कहा कि उनका संगठन आयुर्वेद चिकित्सा का विरोध नहीं कर रहा है । आयुर्वेद चिकित्सकों को जिस तरह की पढ़ाई और प्रशिक्षण दिया जा रहा है, उन्हें उसी अनुरूप कार्य में लगाया जाए।