आपको जानकर बहुत हैरानी होगी की दुनिया में कुछ ऐसे लोग हैं जो फोन लेने-देने से डरते हैं। वैसे तो आपको ये बात बहुत ही आम लगी होगी लेकिन सच यह है कि ये एक तरह से बीमारी है। जिससे पैनिक अटैक आने की संभावना रहती है। इस बीमारी का नाम है नोमोफोबिया (Nomophobia)। यह फोन के बिना रहने का डर होती है।

लोग आज पूरा समय अपने स्मार्ट फोन (smart phone) को अपने से दूर नहीं करते हैं तो इस तरह के फोबिया का अनुभव करना काफी सामान्य है। नोमोफोबिया (Nomophobia) से पीड़ित लोग मोबाइल फोन के बिना रहने या ऐसी जगह पर जाने से डरते हैं जहां उनके फोन में सिग्नल ना हो।

फोबिया (phobia) एक प्रकार का एंग्जायटी डिसऑर्डर (anxiety disorder) है जिसमें एक व्यक्ति को किसी वस्तु या किसी विशेष स्थिति से लगातार और अत्यधिक डर लगता है। फोबिया की शुरुआत आमतौर डर लगने से होती है जो छह महीने से अधिक समय तक मौजूद रह सकता है।