आज के समय में लाइफ इतनी ज्यादा व्यस्त और इतनी ज्यादा वर्कलोड वाली है कि सिर दर्द होना एक आम बात है। वैसे तो यह एक सिर दर्द को कोई ज्यादा गंभीर नहीं लेता है और पेनकिलर जैसी दवाई लेकर ठीक भी हो जाते हैं। लेकिन यह हर बार नहीं होता है। सिर दर्द अलग अलग तरीके से होता है। इसी में शामिल है अधसिरा। आप इसका अर्थ तो जा गए होंगे, अधसिरा मतलब आधा सिर।

दो तरह के होते हैं सिरदर्द

आम तौर पर डॉक्टर सिरदर्द को दो प्रकारों, प्राइमरी और सेकेंडरी केस्तर पर बांटते हैं। प्राइमरी हेडेक में दर्द मुख्य लक्षण होता है वहीं सेकंडरी हेडेक अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की वजह से शुरू होता है। ये समस्याएं ब्रेन ट्यूमर, स्ट्रोक, इन्फेक्शन आदि हो सकती हैं। इन बीमारियों की वजह से बायीं तरफ के साथ-साथ सिर के किसी भी हिस्से में दर्द शुरू हो सकता है।
अधसिरा

जब आधा सिर दर्द करता है तो इसे अधसिरा या half headache भी कहा जाता है। इसके कई कारण होते हैं। इन कारणों को भली भांति जानना न केवल सिरदर्द से तत्कालीन रूप से निजात पाने के लिए ज़रूरी है बल्कि आगे के लिए सचेत रहने में भी मदद करता है।


यह भी पढ़ें- गौहाटी हाईकोर्ट ने मौद्रिक राहत प्रदान करने को लेकर कह दी बड़ी बात



क्लस्टर हेडेक से होने वाला आधे सिर का दर्द


यह भी एक तरह का अधसिरा ही है। यह अक्सर सिर के एक भाग में आंखों के सामने शुरू होता है। इसका दर्द काफी तेज़ होता है और चुभने जैसा अहसास हो सकता है।



दुनिया के 50% वयस्कों है ये प्रॉब्लम


दुनिया भर में 50% मर्दों को सिरदर्द की समस्या होती है। हालांकि दर्द के कुछ प्रकार उतने भीषण नहीं होते और आम घरेलू उपचार से दुरुस्त हो जाते हैं, कुछ सिरदर्द बेहद तीखे और गंभीर होते हैं जिनमें डॉक्टरी सहायता की आवश्यकता बेहद महसूस होती है।