परमानेंट अकाउंट नंबर यानी पैन कार्ड सबसे अहम दस्तावेजों में से एक है। लेकिन, अगर किसी व्यक्ति का पैन कार्ड खो जाए या गायब हो जाए तो उसका परेशान होना लाजमी है। क्योंकि, बिना पैन कार्ड के आपके कई जरूरी काम रुक सकते हैं। यह किसी भी फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन में काम आने वाला डॉक्यूमेंट है। लेकिन, खोने पर क्या करना होगा? घबराएं नहीं, इसका आसान तरीका है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से डुप्लीकेट कार्ड बनवा सकते हैं। डुप्लीकेट पैन कार्ड के लिए अलग से आवेदन करना होगा। इसके लिए आसान से चार स्टेप्स फोलो करने होंगे और आपका पैन कार्ड फिर से आपकी जेब में होगा।

इसके लिए लिए आपको सबसे पहले इनकम टैक्स की वेबसाइट https://www.incometax.gov.in/iec/foportal पर जाएं। पेज के सबसे नीचे ​'Reprint of PAN Card' के विकल्प पर क्लिक करें। और 'Instant E PAN' का विकल्प चुनें। ओटीपी का विकल्प पूछा जाएगा। e-mail Id और मोबाइल में से किसी एक विकल्प को चुन सकते हैं। एप्लीकेशन को ओटीपी से वेरिफाई किया जा सकता है। मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी ओरिजिनल पैन नंबर के साथ रजिस्टर्ड होना चाहिए। 'Generate OTP' पर क्लिक करने के बाद आप ओटीपी आएगा और सब्मिट बटन पर क्लिक करेंगे। ध्यान रहे ओटीपी सिर्फ 10 मिनट के लिए वैध होगा। ओटीपी डालने के बाद पेमेंट करनी होगी। 50 रुपए की मामूली फीस जमा करके आप प्रिंट के लिए क्लिक कर सकते हैं। इसी समय आपको मोबाइल नंबर पर मैसेज भेजा जाएगा। इस ​मैसेज में दिए गए लिंक की मदद से आप अपना e-Pan भी डाउनलोड कर सकते हैं।

ई-पैन डाउनलोड करने के लिए भी आधार और पैन का लिंक होना जरूरी है। ई-पैन डाउनलोड करते समय अगर आपको पैन नंबर नहीं याद है तब आप आधार नंबर डाल सकते हैं और आपका ई-पैन आ जाएगा। भारत सरकार पहले ही यह निर्देश दे चुकी है कि सभी देशवासी अपना पैन कार्ड-आधार के साथ लिंक कर लें। हालांकि ई-पैन तभी आएगा, जब आपका पैन कार्ड आधार से लिंक होगा। ऐसा ने होने पर आप आधार के जरिए अपना ई-पैन नहीं डाउनलोड कर पाएंगे।