विद्रोही संगठन अल्फा के वार्ता समर्थक गुट के नेता जीतेन दत्त ने असमिया जाति के स्वाभिमान व सुरक्षा की आवाज बुलंद करते हुए लोगों से गैर असमिया भाषाभाषी को अपनी जमीन न बेचने का आह्वान किया है।

 उन्होंने कहा कि राज्य के बाहरी लोगों को जमीन बेचने वालों का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। उन्होंने यहां जिला पुस्तकालय प्रेक्षागृ में आयोजित मत विनिमय कार्यक्रम में दत्त ने यह बात की। कार्यक्रम का आयोजन असम जातीयतावाद युवा छात्र परिषद, लाचित सेना, अल्फा के काकोपथार डेजिगनेटेड कैंप सहित कुछ संगठनों द्वारा किया गया। 

दत्त ने भूमिपुत्रों की सुरक्षा की प्रतिबद्धात को दोहराते हुए कहा कि राज्य की युवा शक्ति व विभिन्न संगठों को एकजुट करना जरूरी है। हरिशंकर ब्रह्म द्वारा दाखिल प्रतिवेदन पर बोलते हुए दत्त ने कहा कि राज्य सरकार ने अगर चर इलाकों के अवैध कब्जों को खाली नहीं कराया तो मजबूरन वे इस काम के लिए युवाओं को लेकर आगे बढ़ेंगे। दत्त ने मूल निवासियों से अपील की है कि वे अपनी जमीन स्थानीय मूल निवासियों को ही बेचें।